जागरण संवाददाता, औरैया: सूनी गलियां, खाली सड़के, हर तरफ पसरा सन्नाटा, कुछ ऐसा ही नजारा लॉकडाउन होने बुधवार को शहर में देखने को मिला। जिन बाजारों में जरूरतें खींच कर ले जाती थीं वहां आज कुछ बी नजर नहीं आ रहा था सिर्फ सन्नाटा ही सुनाई दे रहा था। यह सब कुछ कोरोना वायरस से बचाने के लिए पीएम द्वारा किए गए आह्वान पर लोग उसका शत-प्रतिशत पालन कर रहे हैं। कोरोना महामारी दूसरे देशों में तेजी के साथ पैर पसार रही है। लॉकडाउन के दिन घरों में भक्तिभाव से लोगों का दिन गुजरा।

कोरोना वायरस को लेकर जिला प्रशासन ने मंदिरों पर एहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत मंदिरों में सुबह-शाम होने वाली आरती श्रद्धालुओं की भीड़ नहीं रहेगी। न ही मंदिरों में घंटे घड़ियाल की आवाज सुनाई देगी। माता रानी के भक्त इस बार घर पर ही पूजा-अर्चना करेंगे। भक्ति भाव से पूरा दिन गुजरा। अधिकतर लोग व्रत रहने के कारण बाहर नहीं निकले। शहर के लोगों ने कहा कि 21 दिन के लिए लॉकडाउन किया गया है, लेकिन अगर समयावधि बढ़ाई जाती है तो हम इसका पालन करेंगे। फुलवारी में बिताया समय

शहर के आवास विकास में रिटायर्ड शिक्षिका मालती कटियार और उनके पति प्रताप नरायण ने मिलकर अपनी बगिया की संवारने के लिए काम किया, जिसमें पौधों को सिचित किया। कहा कि देश में जो हालात हैं सरकार उसके लिए आवश्यक प्रयास कर रही है। घर में शुरू किया पाठ

दिबियापुर निवासी समाजसेवी महेश पांडेय ने लॉकडाउन के दौरान घर पर परिवार को रामचरितमानस का पाठ सुनाया। बताते है कि घर में धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन करें घर की साफ सफाई करें, 21 दिन कब बीत जाएंगे यह पता ही नहीं चलेगा। एसडीएम ने हटवाए ठेले

एसडीएम सदर विजेता ने बुधवार को मंडी के समीप लगी दुकानों पर जमा भीड़ को मौके हटाया। वहीं बाहर आने वाली गाड़ियों को भी चेक किया । अनावश्यक रूप से खड़े लोगों को घर जाने के लिए निर्देशित किया। जो दूसरे शहर से आए उनकी स्क्रीनिग की गई। माइक से अनाउंस किया कि भीड़ जमा न करें। जो भी नियमों का पालन नहीं करेगा उसे दंडित किया जाएगा।

फल, सब्जी की दुकाने घूम-घूमकर लोगों को सब्जी पहुंचा रही है। लोगों से अपील है कि वह अनावश्यक घरों से बाहर न निकलें।

अभिषेक सिंह, डीएम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस