जागरण संवाददाता, औरैया: सदर कोतवाली क्षेत्र के गांव समरथपुर में 12 सितंबर को घर में घुसकर मां-बेटियों को मरणासन्न करने वाले आरोपितों की तलाश में जुटी पुलिस के हाथ एक आरोपित लगा है। घटना का राजफाश करने के लिए 15 हजार से ज्यादा मोबाइल नंबर को ट्रेस कराया गया था। इसके आधार पर शनिवार की सुबह जालौन रोड पर बाइक से जा रहे दो आरोपित को पकड़े

जाने के लिए घेरेबंदी की। पुलिस को देख बाइक से कूद एक आरोपित भाग निकला। वहीं दूसरा आरोपित हिरासत में लिया गया है। विवेचना में तीन और आरोपित के नाम सामने आए हैं।

सीओ सिटी सुरेंद्र नाथ यादव ने बताया कि गांव समरथपुर स्थित फौजी विजय पाल सिंह गुर्जर की पत्नी रोली व उसकी तीन बेटियों के साथ बदमाशों ने मारपीट की थी। इसमें रोली व उसकी एक पुत्री को ज्यादा चोट आने से उन्हें उपचार के लिए उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विवि सैफई भेजा गया था। जहां से उन्हें ग्वालियर के अस्पताल रेफर कर दिया गया। मां-बेटी की हालत में सुधार है। वहीं

आरोपितों की तलाश में दिन-रात एक कर हजारों मोबाइल फोन नंबर सर्विलांस पर डाले गए थे। पीड़िता रोली ने हालत में सुधार होने पर बयान दिया था। उसने बताया कि हमलावर बदमाशों में से एक उसकी बुआ सास का लड़का है। उसका नाम शिव पूजन पुत्र नवाब सिंह गुर्जर निवासी ग्राम अरू की मड़ैया भीखमनगर थाना अजीतमल है। शनिवार की सुबह सदर कोतवाल संजय पांडेय व उप निरीक्षक प्रशांत कुमार ने सर्विलांस व स्वाट टीम के संयुक्त प्रयास से जालौन रोड से उसे गिरफ्तार कर लिया। वह अपने साथी रवि पुत्र निर्भय सिंह निवासी अरू की मड़ैया के साथ बाइक से

जा रहा था। शिव पूजन को पकड़ा गया है। रवि की तलाश की जा रही है। इसके अलावा दो साथियों कल्लूराज व भूरे के घटना में सम्मलित होने की बात प्रकाश में आई है। घटना में प्रयुक्त लोहे का पाइप खेत से बरामद की गई है।

Edited By: Jagran