जागरण संवाददाता, औरैया : मंगलवार को जिला पंचायत सभागार में बोर्ड बैठक आयोजित हुई। जिसमें अध्यक्ष एवं जिला पंचायत सदस्यों द्वारा प्रस्तावों को पास किया गया तथा नए प्रस्तावों को रखकर जिले का विकास कराए जाने की बात कही गई। एक प्रस्ताव में महामाई मंदिर के जीर्ण शीर्ण मार्ग को दुरूस्त कराए जाने का प्रस्ताव रखा गया। जिसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। बैठक में अनुपस्थित चार अधिकारियों को नोटिस जारी किए जाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

जिला पंचायत की हुई बैठक में प्रथम प्रस्ताव में मई में हुई बैठक की कार्रवाई पर पुष्टि की गई। दूसरे प्रस्ताव में बालू, मौरंग आदि का परिवहन करने वाले वाहनों से शुल्क वसूली पर प्रतिबंध लगाया गया है तथा उक्त विधियों में संसोधन कराते हुए उदगम स्थल पर ही वसूली किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिसे पारित कर दिया गया है। तीसरे प्रस्ताव में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रुरूगंज के बाहर बनी दुकानों को सर्किल रेट पर कई बार नीलाम किया गया लेकिन कोई भी व्यक्ति नीलामी में हिस्सा लेने नहीं आया। अवर अभियंता एवं कर अधिकारी की रिपोर्ट के अनुसार उक्त दुकानों का किराया चार से लेकर पांच सौ तक किए जाने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा जिला पंचायत अध्यक्ष दीपू ¨सह ने क्षेत्र के अंर्तगत पानी की टंकी एवं बारात घरों के निर्माण पर विचार किया। वहीं जिला पंचायत सदस्य सोनू सेंगर की ओर से अजीतमल के बड़ेरा गांव में एक वर्ष से तार टूटे होने की जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि कई बार शिकायत के बाद निस्तारण नहीं हो रहा है। समस्या जस की तास बनी हुई है। जिस पर जिला पंचायत अध्यक्ष दीपू ¨सह ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को समस्या का निस्तारण किए जाने के निर्देश दिए। वहीं बैठक में अनुपस्थित पीडब्लूडी, मंडी सचिव, डूडा एवं ¨सचाई विभाग के अधिकारियों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए। बैठक में सदर विधायक रमेश दिवाकर, दिबियापुर विधायक लाखन ¨सह राजपूत के अलावा अन्य लोग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran