जागरण संवाददाता, औरैया : कोरोना संक्रमण काल जारी है। इन सबके बीच बर्ड फ्लू की आशंका ने लोगों में डर व्याप्त कर दिया है। जिले के करीब दो लाख परिदों के स्वास्थ्य की जांच जारी है। राहत की बात ये है कि अभी तक जनपद में कोई मामला प्रकाश में नहीं आया है। पशु चिकित्साधिकारी ने बताया कि तहसीलवार टीमें लगातार मुआयना कर रही हैं, अभी तक बर्ड फ्लू का कोई केस नहीं मिला है। सर्वाधिक परिदों वाली नदियों में जांच पड़ताल की जा रही है। पक्षियों के समूहों में बर्ड फ्लू के लक्षण मिलने पर बीमार पक्षी को अलग कर दिया जाएगा।

अक्टूबर से दिसंबर माह के बीच झील व नदी में रूस, चीन, साइबेरिया समेत दूसरे ठंडों देशों से विदेशी परिदे आते हैं। वर्तमान में कई विदेशी परिदे नदी किनारे व खाली स्थानों पर बैठे मिलते हैं। फरवरी में विदेशी मेहमान वापस जाएंगे। इसके अलावा सरकारी अनुदान से संचालित बड़े पोल्ट्री फार्म में भी पक्षियों की जांच हो रही है। निजी पोल्ट्री फार्म, लेयर फार्म, एक फार्म में भी वर्तमान में लाखों पक्षी हैं। संचालन कर्ताओं ने अभी तक बर्ड फ्लू की कोई खबर नहीं दी है। रोजाना बाहर से आने वाले, होटलों में सप्लाई होने वाले पक्षियों के कारोबारी ने भी ऐसी कोई सूचना नहीं दी है। इसके बावजूद पशुपालन विभाग एहतियातन सभी के संपर्क में हैं और बीमारी पर नजर बनाए हुए हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एके सिंह ने बताया कि तहसीलवार टीमें गठित कर दी गई हैं, जो लगातार क्षेत्र में भ्रमण कर जांच कर रही हैं।

बर्ड फ्लू फैलाने की जानकारी होते ही सभी लोग सक्रिय हो गए हैं। लोग अंडा व चिकन से दूरियां बना चुके हैं। हर कोई इस बीमारी से परेशान नजर आ रहे हैं। बर्ड फ्लू के चलते अंडा व चिकन कारोबार पर प्रभाव पड़ा है। ग्राहकों की संख्या कम होने से वह परेशान नजर आ रहे हैं।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप