संवादसूत्र, रुरुगंज (औरैया) : बारिश के बाद बाढ़ और अब बीमारियां कहर बरपा रही हैं। ऐरवा कटरा ब्लॉक की ग्राम पंचायत बल्लपुर के गपकापुर गांव में दिमागी बुखार की चपेट में आकर एक ढाई वर्षीय मासूम मौत हो गई। वहीं दर्जन भर बच्चों समेत बड़ी संख्या में लोग बुखार, डायरिया आदि बीमारियों से पीड़ित हैं लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की नींद नहीं टूट रही है।

गपकापुर गांव के चारों तरफ पुरहा नदी का पानी भरा है। इसकी वजह से वहां बीमारियां फैलने लगी हैं। सफाईकर्मी न आने से नालियां चोक पड़ी हैं। गांव के अंदर भी पानी भरा है। इसी के चलते गांव में दो दर्जन से अधिक लोग बीमारी की चपेट में हैं जिनमे एक दर्जन तो छोटे बच्चे हैं। बीमारी के चलते एक बच्चे मयंक पुत्र मुकेश शाक्य ने अस्पताल ले जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया। डाक्टरों ने उसे दिमागी बुखार पीड़ित बताया। गांव के लगभग प्रत्येक घर में कोई न कोई बीमार पड़ा है। पांच दिन से गांव में फैली बीमारी के बाद भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अनजान बने हैं। कई बार ग्रामीणों ने इसकी जानकारी भी दी लेकिन स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने गांव में जाना भी मुनासिब नहीं समझा। ज्यादा बीमार होने के कारण लोग झोलाछाप से इलाज करवाने को मजबूर हैं। गांव में फैली बीमारी के संबंध में सीएमओ डॉ. अवधेश राय ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की कई टीमें बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में लगी हैं व दवाइयां बांट रहीं हैं। अभी तक इस गांव की सूचना नहीं मिली थी। कल टीमें जाकर दवा वितरित करेंगी ।

यह हैं बीमार

¨रकी, अलका पुत्री ब्रजनंदन, वंश पुत्र सोनू, प्रज्ञा पुत्री सर्वेश, ललित पुत्र सर्वेश, ¨पकी पुत्री राम औतार समेत लगभग 2 दर्जन से अधिक ग्रामीण बीमार हैं।

Posted By: Jagran