औरैया, जागरण संवाददाता। फफूंद रेलवे स्टेशन पर जीआरपी के एक सिपाही के हाईवोल्टेज ड्रामे की वजह से 15 मिनट तक ट्रेनें रुकी रहीं। जीआरपी के जवान उसे उठाकर अस्पताल ले गए, जहां नशे में सिपाही की डॉक्टर और मरीज महिला से भी झड़प हो गई। वहीं बाद में रेलवे ने मेमो देकर ट्रेनों को रवाना कराया। ट्रेनों के रुकने पर स्टेशन मास्टर ने अपने मेमो में पटरी पर किसी व्यक्ति के लेटे होने की बात लिखी है।

राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) में तैनात सिपाही हरिश्चंद्र फफूंद रेलवे स्टेशन स्थित चौकी पर शनिवार की देर शाम पहुंचा था और उसने शराब पी रखी थी। चौकी पर पहुंचने पर उसके मुंह से शराब की गंध पर साथी सिपाहियों ने टोका तो वह झगड़ने लगा और कहा-दिमाग खराब है क्या..। बात बढ़ते ही उसने हंगामा शुरू कर दिया। स्टेशन पर तैनात कर्मचारी शोर शराबा सुनकर पहुंचे तो हाईवोल्टेज ड्रामा देखकर सहम गए। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जीआरपी चौकी से बाहर प्लेटफार्म से वह ट्रैक पर कूद गया और लेट गया।

रात में स्टेशन अधीक्षक ने भेजा ट्रेन रुकने का मेमो

रात तकरीबन आठ बजकर 38 मिनट पर स्टेशन मास्टर को सूचना मिली कि ट्रैक पर किसी के लेटे होने से इटावा आ रही मालगाड़ी रुकी है। वहीं दूसरी लाइन पर सियालदह अजमेर एक्सप्रेस रुक गई है। इसकी जानकारी होते ही रेलवे कर्मियों में अफरा तफरी मच गई। स्टेशन अधीक्षक ने तत्काल मेमो में ट्रैक पर किसी व्यक्ति के लेटे होने से ट्रेनें रुकने और ट्रैक क्लीयर कराने की बात लिखकर रेलवे पुलिस को भेजी। इस दौरान करीब 15 मिनट दोनों ट्रेनें रुकी रहीं और फिर रवाना हो सकीं।

अस्पताल में भी किया हंगामा

इससे पहले साथी सिपाही को उठाकर सिपाही अशोक कुमार और सचिन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। अस्पताल पहुंचने पर फिर वह हंगामा करने लगा और चिकित्सक से बहस हो गई। इस बीच मरीज महिला ने आपत्ति की तो उनसे भी झगड़ने लगा। इमरजेंसी में तैनात डॉ. धर्मेंद्र ने बताया कि किसी तरह से जीआरपी सिपाही का मेडिकल परीक्षण किया गया। उसने शराब पी रखी थी, जिस वजह से हंगामा कर रहा था।

इटावा रेलवे थाना प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार मिश्र ने बताया यदि ऐसा कोई मामला है तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी। जीआरपी चौकी प्रभारी जय किशोर गौतम ने घटना के बाबत बात करने से इंकार कर दिया। स्टेशन अधीक्षक वेद प्रकाश ने बताया कि किसी व्यक्ति के ट्रैक पर लेटने से दो ट्रेनों के रुकने की जानकारी मिली थी। ड्यूटी पर तैनात रहे स्टेशन मास्टर को मालगाड़ी के लोको पालयट ने मेमो भी दिया था।

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट