संवादसूत्र, फफूंद: मंगलवार को कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा एवं इफको के संयुक्त तत्वाधान में अछल्दा ब्लॉक के गांव में किसान सभा का आयोजन किया गया। सभा में किसानों को हरी खाद बनाना, धान की नर्सरी लगाने के साथ अच्छी पैदावार लेने के गुर सिखाए गए।

अछल्दा ब्लॉक क्षेत्र के गांव दखनाई में मंगलवार को किसान सभा का आयोजन किया गया। कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी व वरिष्ठ वैज्ञानिक अनन्त कुमार झा ने किसानों को सलाह दी कि इस समय अधिकतर खेत खाली हैं। किसान अपने खेत की मिट्टी का नमूना लेकर केंद्र पर दें। जांच कर किसानों को पोषक तत्वों की जानकारी दी जाएगी। जिससे आगामी धान की फसल में अच्छी पैदावार किसान ले सकें। उन्होंने किसानों को धान की नर्सरी तैयार करने का तरीका तथा खरपतवार नियंत्रण की जानकारी दी। किसानों को धान की प्रजातियों के सम्बन्ध में भी बताया। इफको के उप क्षेत्रीय प्रबन्धक प्रेमराज शर्मा ने बताया कि इफको द्वारा इस गांव को अंगीकृत कर इस गांव के प्रत्येक किसान को 75 प्रतिशत अनुदान पर ढेंचा का बीज दिया गया है। ढेंचा खेत में बोकर 45 दिन में उसे पलट दें, जिससे खेतों को हरी खाद मिलेगी। इससे आगामी फसल में बीस प्रतिशत यूरिया की बचत होगी।

Posted By: Jagran