जासं, औरैया: जिले से होकर निकल रहे निर्माणाधीन बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का कार्य औरैया से सटे जालौन जनपद के गांव कुठौंद में चल रहा है। रविवार की सुबह कार्य के दौरान कुछ श्रमिकों की नजर बेसुध पड़े एक साथी पर पड़ी। जिसे वाहन से लेकर वह 50 शैया जिला संयुक्त चिकित्सालय पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद आए श्रमिक भाग निकले। मृतक का नाम व

पता पता होने पर स्वजन को सूचना दी गई। वह पहुंचे और अस्पताल में पहले हंगामा किया। इसके बाद हत्या की आशंका जताते हुए अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने शव कब्जे में लिया। आरोप के तहत जांच शुरू की। वहीं एक टीम को कुठौंद के लिए रवाना कर दिया गया।

कानपुर देहात जनपद के गांव किसौरा निवासी 45 वर्षीय नरेंद्र यादव निर्माणाधीन बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में लगी इको कंपनी में एक श्रमिक था। जालौन जनपद के गांव कुठौंद के पास कार्य के दौरान उसे अचेत हालत में उसके साथी श्रमिकों ने देखा। वह आनन-फानन साइड पर लगे वाहन से उसे 50 शैया जिला अस्पताल औरैया लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित किया। वह साथी का नाम, पता नोट कराने के बाद अस्पताल के बाहर खड़े वाहन को छोड़ भाग निकले। चिकित्सकों ने उन्हें इधर-उधर तलाशा। न मिलने पर सूचना पुलिस व मृतक के स्वजन को दी। जानकारी होते ही स्वजन रोते हुए पहुंचे। उन्हें पूरी घटना बताई गई। इस पर उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया। किसी तरह उन्हें शांत कराते हुए सदर कोतवाली पुलिस को बुलाया गया। प्रभारी निरीक्षक संतोष कुमार अवस्थी ने बताया कि स्वजन की ओर से हत्या की आशंका जताई जा रही है। मौत के पीछे का क्या कारण है, यहां पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर ही पता लगेगा। फिलहाल, जांच की जा रही है। इसके अलावा कार्यरत कंपनी के ठेकेदार व वहां काम कर रहे श्रमिकों से पूछताछ के लिए एक टीम कुठौंद भेजी गई है।

Edited By: Jagran