जोया: भाजपा नेता डॉ. देवेंद्र मलिक की बेटी के मेडिकल स्टोर पर नशीले इंजेक्शन व प्रतिबंधित दवाइयों के पकड़े जाने के मामले में पुलिस ने मेडिकल स्टोर पर काम करने वाले तीन नामजद युवकों को जेल भेज दिया है। जबकि भाजपा नेता का दामाद व फार्मासिस्ट फरार चल रहे हैं।

मंगलवार को मुखबिर की सूचना पर एसपी सुधीर कुमार ¨सह ने डिडौली व अमरोहा नगर पुलिस टीम के साथ कस्बे में मलिक मेडिकल स्टोर पर छापा मारा। औषधि विभाग की टीम भी बुला ली गई। पुलिस व औषधि विभाग की टीम ने मेडिकल स्टोर से नशीले इंजेक्शन व प्रतिबंधित दवाइयां बरामद की थीं। बता दें कि यह मेडिकल स्टोर भाजपा के जोया मंडलाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र मलिक के आवास में संचालित किया जा रहा था। मेडिकल का लाइसेंस फार्मासिस्ट नितिन शर्मा के नाम पर है तथा संचालन का रजिस्ट्रेशन डॉ. देवेंद्र मलिक की बेटी डॉ. सुनंदा चौधरी के नाम पर है। कल जिस समय मेडिकल स्टोर पर छापा मारा गया था तो वहां पर भाजपा नेता खुद मौजूद थे। पुलिस ने मौके से मेडिकल स्टोर पर काम करने वाले तीन युवकों शहरान, मोहम्मद मसूद व शुऐब को हिरासत में ले लिया था जबकि तीनों युवक मेडिकल स्टोर पर तीन सौ रुपये रोज की नौकरी करते हैं। इस मामले में पुलिस ने भाजपा नेता के दामाद डॉ. नगेंद्र ¨सह, फार्मासिस्ट नितिन शर्मा, शहरान, मोहम्मद मसूद व शुऐब के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। चर्चा है कि पुलिस ने फर्मासिस्ट नितिन शर्मा व डॉ. नगेंद्र ¨सह को भी हिरासत में लिया था, लेकिन उन्हें छोड़ दिया गया।

इस मामले को लेकर मंगलवार रात गिरफ्तार किए गए तीनों युवकों के परिजनों ने कोतवाली पहुंच कर हंगामा किया था। उनका आरोप था कि पुलिस ने बेकसूर युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। कार्रवाई के बाद पुलिस ने सत्तापक्ष के दवाब में काम किया है। जबकि उनका कोई लेनादेना नहीं है। आज बुधवार को तीनों युवकों को जेल भेज दिया गया है। जबकि नामजद आरोपित डॉ. नगेंद्र ¨सह व नितिन शर्मा फरार चल रहे हैं। प्रभारी निरीक्षक ऋषिराम कठेरिया ने बताया कि जल्दी ही उन्हें भी जेल भेजा जाएगा।

By Jagran