अमरोहा, जेएनएन। डिडौली के गांव सेंतली में मां व दो बच्चों की मौत का राज पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फाश हो गया है। विवाहिता की गला दबाकर हत्या की गई थी। जबकि दोनों बच्चों की मौत दम घुटने से हुई है। फिर भी पुलिस ने बच्चों का बिसरा सुरक्षित रखा है। दोपहर बाद मृतकों को सुपर्दे खाक कर दिया गया।

गुरुवार को डिडौली कोतवाली क्षेत्र के गांव सेंतली में रहने वाले आसिफ अली की पत्नी सायमा व दो बच्चों बेटी नजमुल हुदा व बेटे हैदर अली के शव कमरे में पड़े मिले थे। बच्चों के शव डबलबेड के बॉक्स में थे तो सायमा का शव बेड पर नग्नावस्था में मिला था।चर्चा थी कि सायमा ने बच्चों की हत्या करने के बाद आत्महत्या की है। पति आसिफ के मुताबिक सायमा की मानसिक स्थिति ठीक नही थी तथा उसने इसी कारण घटना को अंजाम दिया है। इसके अलावा कोई तर्क ऐसा नहीं था कि जिससे घटना की स्थिति स्पष्ट हो सके। इस घटना से क्षेत्र में सनसनी फैल गई थी।

आइजी रमित शर्मा ने भी घटनास्थल का दौरा किया था। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिये थे। गुरुवार देरशाम पति की तहरीर पर मृतका सायमा के खिलाफ ही हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। हालांकि पुलिस के गले परिजनों का तर्क नही उतर रहा था। दैनिक जागरण ने भी घटना को लेकर जो सवाल खड़े किए थे वह पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सही साबित हुए। गुरुवार देर रात मजिस्ट्रेट शमीम अहमद की निगरानी में तीन चिकित्सक के पैनल ने तीनों शव के पोस्टमार्टम किए। जिसमे सायमा व उसके दोनों बच्चों की मौत का कारण स्पष्ट हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक सायमा ने आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि गला दबाकर उसकी हत्या की गई थी। जबकि दोनों बच्चों की मौत दम घुटने से हुई है। हालांकि पुलिस ने दोनों बच्चों का बिसरा सुरक्षित रख लिया है। शुक्रवार दोपहर बाद गांव में तीनों मृतकों को सुपुर्दे खाक कर दिया गया है। इस बारे में एएसपी अजय प्रताप सिंह ने बताया कि सायमा की गला दबाकर हत्या की गई है। दोनों बच्चों का बिसरा सुरक्षित रखा गया है। कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर अब अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस