अमरोहा : पुलिस अधीक्षक ने ड्रग विभाग के अफसरों के साथ मंगलवार की दोपहर जोया स्थित भाजपा नेता के मेडिकल स्टोर पर छापा मारा। यहां से भारी संख्या में प्रतिबंधित दवाएं बरामद की हैं। इस मामले में ड्रग इंस्पेक्टर मुरादाबाद ने पांच लोगों पर मुकदमा दर्ज कराया है। इनमें से तीन को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है।

युवाओं को नशे की गिरफ्त में फंसते देख पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार ¨सह काफी दिनों से इसके कारण की जानकारी में लगे थे। इसी दौरान उन्हें सूचना मिली की जिले में हाई पेन किलर और मानसिक रोगियों को दी जाने वाली दवाओं की खुलेआम बिक्री हो रही है। इन दवाओं का इस्तेमाल युवा वर्ग नशे के रूप में कर रहे हैं। एक दो मामले उनके संज्ञान में आ गए। मंगलवार को उन्हें मुखबिर से सूचना मिली कि जोया चौकी से मात्र 30 मीटर की दूरी पर स्थित भाजपा नेता के मलिक मेडिकल स्टोर से इन दवाओं की बिक्री हो रही है। ऐसे में उन्होंने सादी वर्दी में दो सिपाहियों को वहां भेजा। ग्राहक बनकर गए दोनों सिपाहियों ने मलिक मेडिकल स्टोर से बिना डॉक्टर के पर्चे के प्रतिबंधित दवाएं खरीदीं। इसके बाद एसपी ने अमरोहा नगर कोतवाल और डिडौली कोतवाल के साथ भारी संख्या में पुलिस फोर्स व ड्रग विभाग के इंस्पेक्टर पीयूष कुमार और ड्रग इंस्पेक्टर नरेश मोहन के साथ मेडिकल स्टोर पर छापेमारी कर दी।

दोनों ड्रग इंस्पेक्टरों ने मेडिकल स्टोर को खंगालना शुरू किया तो 301 प्रतिबंधित इंजेक्शन और बड़ी संख्या में नशीले टेबलेट व केपसूल बरामद हुए। इस मामले में ड्रग इंस्पेक्टर नरेश मोहन में डिडौली कोतवाली में तहरीर देकर डॉ. नागेंद्र ¨सह, फार्मासिस्ट नितिन शर्मा, शहरान, मोहम्मद मसूद, मोहम्मद शोएब के खिलाफ 8/20 एनडीपीएस एक्ट में तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने शहरान, मोहम्मद मसूद व मोहम्मद शोएब को मौके से गिरफ्तार कर लिया है। फार्मासिस्ट नितिन शर्मा व डॉ. नागेंद्र ¨सह फरार है। प्रतिबंधित नशीली दवाओं की गिरफ्त में फंसकर तेजी के साथ कई युवा बरबाद होते जा रहे हैं। इन दवाओं को कुछ मेडिकल स्टोरों से अवैध ढंग से बेचा जा रहा है। मुखबिर की सूचना पर छापेमारी की गई थी। कुछ अन्य मेडिकल स्टोरों के खिलाफ भी जल्द ही बड़ी कार्रवाई की जाएगी।

सुधीर कुमार ¨सह, पुलिस अधीक्षक, अमरोहा।

Posted By: Jagran