मंडी धनौरा : पालिका बोर्ड की बैठक में शहर के विकास व जनता की जरूरत से जुड़े प्रस्तावों को हरी झंडी दी गई। पालिका द्वारा मुहैया कराई गई जमीन पर जुबिलेंट आरओ वाटर प्लांट लगाकर जनता को सस्ता पानी उपलब्ध कराएगी। एम्बुलेंस खरीदने व पार्कों के सौंदर्यीकरण से जुड़े प्रस्तावों को सर्व सम्मति से पारित किया गया।

पालिका सभागार में हुई बोर्ड की बैठक में अध्यक्ष राजेश सैनी ने कहा जुबिलेंट फैक्ट्री शहर में आरओ वाटर प्लांट लगाना चाहती है। इसके लिए पालिका निशुल्क भूमि मुहैया कराएगी। यहां से मात्र आठ रुपए कीमत में जनता को आरओ वाटर की केन उपलब्ध कराई जाएगी। इसका जनता को लाभ मिलेगा। इस प्रस्ताव को सदन ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया।

सभासद संजय कुमार उर्फ डब्बू फौजी ने चौधरी चरण ¨सह पार्क बनाने का प्रस्ताव रखा। साथ ही लोगों की सुविधा से जुड़ी एम्बुलेंस खरीदने, शूरसेन सैनी पार्क का सौंदर्यीकरण कराने, वार्ड संख्या तीन में जाटव धर्मशाला का निर्माण कराने, सफाई कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव रखा गया। इस पर सर्वसम्मति की मुहर सदन द्वारा लगाई गई। वहीं गत माह के आय व्यय के ब्योरा प्रस्तुत कर उसे पास किया गया। कुछ सभासद ने पूर्व की बैठक में दिए गए प्रस्तावों पर कार्य नहीं कराए जाने पर रोष प्रकट किया। वहीं साफ सफाई व्यवस्था को मजबूत करने की बात कही।

इस मौके पर उमेश कुमार, संजय कुमार उर्फ डब्बू फौजी, सचिन शर्मा, बिट्टू शर्मा, सावन भटनागर, दुलीचंद गिहार, सुरेश कुमार, कलुवा अहमद, इनामुल्ला, गुरजीत कौर, नेहा कौशिक, राजेन्द्र सैनी, गौरव धारीवाल आदि सभासद मौजूद थे। ईओ के गजरौला प्रेम को लेकर सभासदों में रोष

मंडी धनौरा : अधिशासी अधिकारी के गजरौला प्रेम को लेकर सभासदों में रोष दिखाई दिया। स्मरणीय है कि गजरौला के अधिशासी विजेन्द्र ¨सह पाल को शहर की पालिका का अतिरिक्त चार्ज है। वह आज पालिका बोर्ड की बैठक में भी नदारद दिखे। इस पर सभासदों ने रोष प्रकट किया। उनका आरोप है कि ईओ कभी कभार ही पालिका में आते है। इस कारण विकास कार्य प्रभावित हो रहे है व वार्ड से संबंधित समस्याओं का भी निस्तारण नहीं हो पाता। माह के तीस दिन में 28 दिन ईओ गजरौला पालिका में ही रहते है। इसको लेकर रोष प्रकट किया गया। अब घर बैठे मिलेगा पीड़ित परिवार को मृत्यु प्रमाण पत्र

मंडी धनौरा: अब घर बैठे की लोगों को मृत्यु प्रमाण पत्र दिया जाएगा। पालिका बोर्ड की बैठक में सभासदों ने कहा मृत्यु के पश्चात गमगीन परिवार को पालिका में प्रमाण पत्र बनवाने के लिए चक्कर लगाने पड़ते है। ऐसी व्यवस्था की जाए कि पालिका का कर्मचारी पीड़ित परिवार से मिले व उसकी कागजी कार्रवाई पूर्ण कराकर उसे मृत्यु प्रमाण पत्र घर पर ही मुहैया कराए जाए। जनता से जुड़े इस प्रस्ताव पर सर्वसम्मति से मुहर लगाई गई।

Posted By: Jagran