अमरोहा : दिल्ली के सीलमपुर से गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी मोहम्मद फैज को लेकर पहुंची एनआइए की टीम गुरुवार आधी रात तक कार्रवाई में जुटी रही। साक्ष्य जुटाने के बाद तड़के दिल्ली लौट गई। इस दौरान टीम संदिग्ध को लेकर देर रात पूर्व में पकड़े गए सैदपुर इम्मा निवासी सगे भाई सईद व रईस की दुकानों पर भी पहुंची। वहां पर भी मोहम्मद फैज से पूछताछ की।

गुरुवार की दोपहर एनआइए की टीम दिल्ली के सीलमपुर से गिरफ्तार किए गए संदिग्ध आतंकी मोहम्मद फैज को लेकर अमरोहा पहुंची। यहां टीम ने सबसे पहले मदरसा जामा मस्जिद में फैज की निशानदेही पर साक्ष्य जुटाए। चूंकि गिरफ्तारी के बाद मोहम्मद फैज ने एनआइए को बताया था कि वह अपने दो साथियों के साथ आतंकी संगठन हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम के मुखिया मुफ्ती सुहैल के बुलावे पर अमरोहा बया था तथा यहां मदरसा जामा मस्जिद में ठहरे थे। यहां पर टीम ने मदरसा प्रबंध समिति से बात करने के साथ ही रिकार्ड भी चेक किया। साक्ष्य जुटाने के बाद टीम उसे लेकर मुफ्ती सुहैल के घर तथा बाद में मुहल्ला बड़ा दरबार स्थित उसकी ससुराल भी गई थी। वहां पर भी टीम ने साक्ष्य जुटाए थे। देर रात तक टीम नगर कोतवाली में ठहरी थी।

रात लगभग बारह बजे टीम मोहम्मद फैज को लेकर नगर कोतवाली से निकली। इसके बाद एनआइए टीम उसे लेकर मुहल्ला इस्लामनगर स्थित सईद व रईस की वेल्डिग की दुकान पर पहुंची तथा पूछताछ की। उसके बाद गांव सैदपुर इम्मा के अड्डे पर स्थित उनकी दूसरी दुकान पर भी गई तथा वहां भी फोटोग्राफी की थी। उसके बाद तड़के लगभग पांच टीम संदिग्ध को साथ लेकर दिल्ली लौट गई।

बता दें कि बीती 26 दिसंबर 2018 को एनआइए ने अमरोहा में छापा मार कर आतंकी संगठन हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम के कथित सरगना मुफ्ती सुहैल के साथ गांव सैदपुर इम्मा निवासी सगे भाई सईद व रईस तथा मुहल्ला पचदरा निवासी आटो चालक इरशाद को भी गिरफ्तार किया था।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Edited By: Jagran