अमरोहा, जेएनएन: गर्भवती महिला की इलाज के अभाव में मौत हो गई। मायके वाले शव लेकर कोतवाली पहुंचे और इलाज न कराकर जानबूझकर मारने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की।

जनपद सम्भल के थाना रजपुरा के गांव सिगोला निवासी नत्थू सिंह का कहना है कि उन्होंने अपनी बेटी शकुंतला की शादी करीब 15 माह पहले हसनपुर कोतवाली के गांव कालका वाली डगरौली निवासी अमीचंद से की थी। करीब महीना भर पहले विवाहिता के पति का जंगल में फंदे पर शव लटका मिला था। शकुंतला गर्भवती थी। चिकित्सक ने उसकी हालत को देखते हुए आपरेशन कराने की सलाह दी थी लेकिन, ससुराल वालों ने अस्पताल ले जाकर आपरेशन से डिलीवरी नहीं कराई। जिसकी वजह से घर पर ही पेट में बच्चा मरने से विवाहिता की हालत बिगड़ गई। सूचना मिलने पर मायके वाले बुधवार रात उसे इलाज हेतु हापुड़ ले गए लेकिन, चिकित्सक ने देखते ही उसे मृत घोषित कर दिया। मृतका के पिता का कहना है कि इलाज न कराकर जानबूझकर ससुरालियों ने उनकी बेटी को मार दिया है। खबर लिखे जाने तक मायके वाले शव लिए कोतवाली पर मौजूद थे। कार्रवाई हेतु पुलिस को तहरीर दी गई है। प्रभारी निरीक्षक पीके चौहान ने बताया कि महिला की मौत का मामला संज्ञान में आया है जांच कर जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

हाईवे पर हादसे में वृद्धा की मौत

संसू, जोया: हाईवे पर सड़क पार कर रही वृद्धा को अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। हादसे में गंभीर रूप से घायल वृद्धा की उपचार के दौरान मौत हो गई। स्वजन ने बगैर कार्रवाई मृतका का अंतिम संस्कार कर दिया है।

डिडौली कोतवाली क्षेत्र के गांव सहसपुर अलीनगर में स्व गजराम सिंह का परिवार रहता है। उनकी 60 वर्षीय पत्नी शांति देवी गुरुवार दोपहर घर से बुढ़नपुर स्थित प्रथमा बैंक की शाखा जाने के लिए निकली थीं। बुढ़नपुर में हाईवे पर सड़क पार करते समय उन्हें मुरादाबाद की दिशा से आ रहे अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। हादसे में वह गंभीर रूप से घायल हो गई थीं। मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से घायल को कस्बा के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उनकी उपचार के दौरान मौत हो गई।

Edited By: Jagran