कांकाठेर : कांकाठेर जंगल में चोरों ने हाईटेंशन विद्युत लाइन के दस खंभों के बीच का करीब 12 सौ मीटर तार काट लिया। पुलिस को आता देखकर चोर तार छोड़कर फरार हो गए। बरामद तार बिजली विभाग के सुपुर्द कर दिया गया है। वहीं लाइन कटने से अठारह गांवों में 18 घंटे बिजली संकट बना रहा।

हाईवे किनारे स्थित मोहम्मदाबाद 33/11 केवी बिजलीघर से निकल रहे ख्यालीपुर फीडर की ग्यारह हजार वोल्टेज की विद्युत लाइन रात चोरों के निशाने पर आ गई। रात साढ़े दस बजे अचानक फाल्ट होने के बाद बंद हुई लाइन फिर चालू नहीं हुई। यह फाल्ट चोरों द्वारा लाइन काटने से हुआ। चोरों ने दस खंभों के बीच का करीब 1200 मीटर तार काट लिया। इस दरमियान एक खंभा भी तोड़कर क्षतिग्रस्त कर दिया। उधर लाइन नहीं जुड़ने पर बिजलीघर पर तैनात एसएसओ ने इसकी सूचना अफसरों एवं पुलिस को दी। पुलिस संबंधित क्षेत्र में सायरन बजाते हुए गश्त करने पहुंची। कांकाठेर के जंगल में लाइन कटी होने व तार के बंडल एक खेतों के बीच पड़े मिले। इससे बिजली विभाग में खलबली मच गई। सुबह में अवर अभियंता साहब ¨सह एवं एसडीओ आरपी ¨सह ने मौका मुआयना किया और बरामद तार बिजलीघर पर रखवा दिया।

अवर अभियंता ने बताया कि चोरों ने तार के छोटे-छोटे टुकड़े कर उनके बंडल बनाए थे। इस कारण अब उपयोग में नहीं लाए जा सकते। बताया यह लाइन अभी विभाग के हैंडओवर नहीं की गई थी। इसलिए इस घटना की तहरीर निर्माण कंपनी विश्वनाथ कंस्ट्रक्शन के ठेकेदार द्वारा दी गई है। उसकी रिपोर्ट भी पुलिस ने दर्ज नहीं की है। इससे कुदैना, खुंगावली, रखेड़ा, बिजौरा, ख्यालीपुर, मोहम्मदपुर समेत 18 गांवों को आपूर्ति होती थी। सोमवार की दोपहर बाद करीब तीन बजे पुरानी लाइन के तार जोड़कर बाधित गांवों की आपूर्ति सुचारू कराई गई। घटनाएं होने के बावजूद रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रही पुलिस

गजरौला : क्षेत्र में सक्रिय चोर एक बाद एक हाईटेंशन विद्युत लाइनों को निशाना बना रहे हैं। इसके बावजूद पुलिस ने अभी तक किसी भी घटना को न तो दर्ज किया है और न ही चोरों का सुराग लगा सकी है। दो दिन में दो लाइनों को चोरों ने निशाना बना विभाग को करीब साढ़े चार लाख की चपत लगा दी। हालांकि चोरों द्वारा काटा तार पुलिस ने मौके से बरामद कर लिया, लेकिन तारों को खुर्दबुर्द करने से वह उपयोग करने लायक नहीं रहे। बीती रात चोरों द्वारा काटी गई एचटी लाइन विभाग के हैंडओवर नहीं हुई है। फिलहाल ट्राई ली जा रही थी। घटना में हुए नुकसान की जिम्मेदारी कंस्ट्रक्शन कंपनी की है। इसलिए कंपनी के ठेकेदार ने ही घटना की तहरीर पुलिस को दी है।

आरपी ¨सह, विद्युत एसडीओ गजरौला।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप