जागरण संवाददाता, अमरोहा: नन्हेड़ा अलियारपुर से भूकापुरी को जाने वाले मार्ग पर गागन नदी के ऊपर बना रपटा पुल दरक गया है। कई जगह उसमें बड़ी दरारें पड़ गई हैं। किसी भी समय यह पुल बड़े हादसे का कारण बन सकता है। हालांकि, प्रशासन ने लोगों को खतरे से सावधान किया है और उससे संबंधित बोर्ड भी सड़क किनारे लगा दिया है। जिस पर लिखा है कि आगे रपटा पुल क्षतिग्रस्त है। भारी वाहनों का प्रवेश वर्जित है। कृपया वाहन को धीरे चलाएं। इधर पुल में दरारें पड़ने से सात गांवों के लोग बेचैन हैं।

नन्हेड़ा अलियारपुर-भूकापुरी गांव को जोड़ने वाले रास्ते पर प्रशासन द्वारा वर्ष 2003 में रपटा पुल बनवाया गया था। यह पुल गागन नदी पर बना है। नदी में पानी ज्यादा होने की वजह से अक्सर हादसे होते रहते थे। कई बार ग्रामीणों ने इस समस्या को अफसरों व जनप्रतिनिधयों के सामने उठाया था। जिस पर संज्ञान लेते हुए प्रशासन ने नदी पर पुल का निर्माण कराया था। करीब सत्रह साल में ही अब इस पुल में गहरी-गहरीं दरारें पड़ गई हैं। जिससे वह क्षतिग्रस्त हो गया है। क्षेत्र के लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर इसी पुल से गुजर रहे हैं लेकिन, प्रशासन ने चेतावनी का बोर्ड वहां लगा दिया है और भारी वाहनों के प्रवेश को भी प्रतिबंधित कर दिया है।

----------------------------

सात गांवों के लोग हुए बेचैन

अमरोहा: गागन नदी पर बने रपटा पुल की वजह से क्षेत्र के सात गांवों के लोगों में बेचैनी हैं क्योंकि, इस पुल से नन्हेड़ा अलियारपुर, भूकापुरी, सिहाली, झनकपुरी, बहलोलपुर, खुशहालपुर, फोलड़ा पट्टी गांव के लोग गुजरते हैं और गंतव्यों तक पहुंचते हैं। इसमें आई दरार से पुल के धराशायी होने का खतरा उनको चिता में डाले हुए है।

-------------------------

फोटो---8

पुल बनने से लोगों को काफी फायदा हुआ है। इसके टूटने से खतरा है। इसलिए प्रशासन को पुल की मरम्मत का कार्य कराना चाहिए। इसमें लापरवाही हादसे का कारण बन सकती है।

काशीराम शर्मा, गांव भूकापुरी

-------------------

फोटो---7

नदी में पानी के तेज बहाव से ही पुल टूटा है और उसमें दरारें आई हैं। अधिकारियों ने सावधानी का बोर्ड तो लगा दिया है लेकिन, उसको सुधारने के लिए कोई कार्य नहीं किया है। शायद उनको भी हादसे का इंतजार है।

मदन लाल शर्मा, गांव भूकापुरी

------------------

फोटो----9

इस पुल के बनने से कई गांवों के लोगों को फायदा हुआ है। अब क्षेत्रीय लोगों को उसकी मरम्मत कराने के लिए अफसरों से बातचीत करनी चाहिए। इसमें किसी तरह की देरी नहीं करनी चाहिए।

शिवचरन सिंह, गांव नन्हेड़ा अलियारपुर

------------------

फोटो----12

जब अधिकारी बोर्ड लगा रहे थे तभी, उनसे कुछ लोगों ने मरम्मत कराने की बात रखी थी लेकिन, अधिकारियों ने कोई ध्यान नहीं दिया। अब पुल की हालत ठीक नहीं है। कभी भी बड़ी घटना हो सकती है।

जीराज सिंह, गांव नन्हेड़ा अलियारपुर

---------------------

वर्जन- फोटो- 13

ऐसी कोई सूचना अभी तक संज्ञान में नहीं आई है। न ही कोई शिकायती पत्र मिला है। अगर पुल दरक गया है तो उसको दिखवाया जाएगा। इसके साथ ही उसकी मरम्मत भी कराई जाएगी।

उमेश मिश्र, जिलाधिकारी

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस