गजरौला : हाईवे के चौड़ीकरण में डंपरों से मिट्टी डालने का ठेका मिलने की बात कहकर ठगियों ने चार पेट्रोल पंपों से 14 लाख रुपये का डीजल उधार लिया और चंपत हो गए। इस बारे में पंप स्वामियों को मालूम हुआ तो होश उड़ गए। पंप स्वामियों ने मामले की तहरीर थाने में दी है। पुलिस प्रकरण की जांच करते हुए आरोपितों की तलाश में जुट गई है।

गजरौला में हाईवे पर स्वागत होटल के बराबर में अनिल गर्ग का गंगा फिलिग, रजबपुर में धर्मसिंह का शहीद अरविद्र फिलिग, गांव कूबी में करन सिंह का सीपीसी फिलिग व लोधीपुर में चरण सिह का चरण सिंह फिलिग के नाम से पेट्रोल पंप है। 21 जुलाई को इन पेट्रोल पंपों पर एक होंडा सिटी कार सवार तीन व्यक्ति पहुंचे। उनमें से एक ने खुद को ग्वालियर का निवासी बताया। कहा उन्हें आईआरबी कंपनी से हाईवे के चौड़ीकरण कार्य पर मिट्टी डालने का ठेका मिला है। करीब आठ माह तक काम चलेगा। इसलिए जिन डंपरों से मिट्टी डाली जाएगी, उनमें डीजल डलवाना है। डीजल डलवाने के सात दिन बाद पैसे पेट्रोल पंप स्वामियों के खाते में डालने की बात तय हो गई। इन लोगों ने पेट्रोल पंप स्वामियों के पास आईडी, चेक, पैन कार्ड, जीएसटी नंबर आदि भी जमा कर दिया। इसके बाद दो-दो बार में ड्रमों से चारों पेट्रोल पंपों से 14 लाख रुपये का डीजल लेकर फरार हो गए।

पंप स्वामियों ने इनसे संपर्क करने का प्रयास किया तो न तो किसी फोन मिला और न ही कोई जानकारी मिली। फर्जी लोग होने की जानकारी मिलने पर पंप स्वामियों के होश उड़ गए। एकत्र होकर थाने पहुंचे और तहरीर दी। पुलिस व पंप स्वामी इन आरोपितों की तलाश में जुटे हैं। प्रभारी निरीक्षक जयवीर सिंह ने बताया पुलिस प्रकरण की जांच में जुटी है। मुकदमा दर्ज किया जाएगा। कम दामों में बावनखेड़ी गांव में बेचा गया डीजल

गजरौला : चारों पेट्रोल पंप से 14 लाख रुपये की कीमत का डीजल लेकर आरोपितों ने उसे गांवों में जाकर कम दामों में बेच दिया। इसकी जानकारी उस व्यक्ति से हुई जिसकी पिकअप गाड़ी में पंप से तेल के ड्रम लदकर जाते थे। पुलिस ने उसे भी हिरासत में ले लिया है। हसनपुर के बाबनखेड़ी गांव में भी लोगों को कम दामों में तेल बेचा गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस