अमरोहा: शहर में मीट की दुकानों के खुलते ही कोरोना गाइड लाइन की धज्जियां उड़ गईं। दिन निकलते ही दुकानों पर उमड़ी भीड़ की आपाधापी ने शारीरिक दूरी नियम को पैरों तले कुचल डाला। राजनीतिक दबाव में देर रात लिया गया पुलिस व प्रशासनिक अफसरों का फैसला तीन घंटे के भीतर हालात बयां कर गया। पुलिस को इस दौरान मशक्कत करनी पड़ी।

कोरोना क‌र्फ्यू के समय मीट की दुकानें बंद थीं। इन्हें खोले जाने की मांग भी लगातर उठ रही थी। हवाला दिया जा रहा था कि मीट आवश्यक खाद्य वस्तुओं की श्रेणी में आता हैं। ऐसे में मीट की दुकानें खुलनी चाहिए। परंतु कोरोना से बढ़ते मौतों के आंकड़े और लगातार बढ़ती संक्रमितों की संख्या से अ़फसर सहमे हुए थे।

इसी कशमकश के दरमियान बुधवार देर रात अफसरों ने गुरुवार की सुबह 7 बजे से 10 बजे तक तीन घंटे मीट की दुकानें खोलने का आदेश दे दिया। राजनीतिक दबाव में ईद के मद्देनजर लिया गया फैसला दिन निकलते ही मीट की दुकानों पर उमड़ी भीड़ के बीच लाचार नजर आया। मीट की दुकानों पर कोरोना गाइड लाइन धड़ाम हो गई। मीट खरीदने की आपाधापी में लोग शारीरिक दूरी नियम भूल गए और धक्कामुक्की के बीच हालात बद से बदतर दिखाई दिए।

सुबह दस बजे मीट की दुकानें तो बंद हो गई लेकिन पुलिस को इस दौरान भागदौड़ करनी पड़ी। कई दुकानों में निर्धारित समय के बाद भी बिक्री की सूचना पर पुलिस ने कार्रवाई की। जानकारी मिली कि दुकानदार बाहर से ताला लगाकर भीतर भीड़ को भरे हुए हैं। लिहाजा पुलिस ने ताले तोड़ कर भीतर जमा भीड़ को निकाला। दुकानदारों से जुर्माना भी वसूला। प्रभारी निरीक्षक रविद्र सिंह ने बताया कि नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप