अमेठी: जलाली बलापुर ग्राम पंचायत में लाखों की लागत से बना सामुदायिक शौचालय व नंद घर पिछले दो महीने से जलमग्न हैं। ग्राम पंचायत के सहाबगढ़ गांव में तालाब के किनारे बने यह दोनों सरकारी भवन जलभराव की चपेट में आकर अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं। भवन के अंदर व बाहर इस कदर जलभराव है कि इसमें जाना खतरे को आमंत्रण देना है। दो माह से जस की तस बनी हुई है समस्या, जिम्मेदार मौन, दोनों भवन जलभराव की चपेट में हैं।

तालाब के किनारे गहराई वाली भूमि पर बना शौचालय प्रयोग में नहीं आ रहा है। जलभराव के कारण इसमें बनाए गए टैंक के भी ध्वस्त होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। ग्रामीणों ने पंचायत सचिव, रोजगार सेवक व प्रधान प्रतिनिधि को इसकी जानकारी दी और जलभराव की समस्या से निजात दिलाए जाने की मांग की, लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी।

बाल विकास परियोजना द्वारा संचालित आंगनबाड़ी केंद्र संचालन के लिए बना नंद घर पिछले तीन महीने हो गए चारों ओर से पानी भर जाने से निष्प्रयोज्य साबित हो रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि इस भवन में अभी केंद्र का संचालन शुरू नहीं हुआ है। बरसात ने सरकारी व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है। वे बताते हैं कि यहां नियुक्त ग्राम सचिव आज तक गांव नहीं आए और न ही उन्हें यह जानकारी है कि यह भवन बने कहां हैं।

वर्जन::

एडीओ पंचायत विजय यादव कहते हैं कि यदि भवन जलभराव की चपेट में हैं तो निरीक्षण कर जल निकासी की व्यवस्था कराई जाएगी।

Edited By: Jagran