अमेठी : दोस्त की पत्नी से चल रहे अवैध संबंधों के चलते ही जियालाल ने गोली मारकर अपने दोस्त को मौत के घाट उतार दिया था। पुलिस ने धर्मेद्र हत्याकांड का राजफाश करते हुए उसके दोस्त जियालाल को हत्याकांड के 24 घंटे के अंदर ही गिरफ्तार कर लिया। हत्या में प्रयुक्त तमंचा भी पुलिस ने बरामद कर लिया। वहीं हत्याकांड में मृतक की पत्नी की भूमिका की पुलिस जांच कर रही है।

संग्रामपुर थाना क्षेत्र के पूरे तालुकदार मजरे गोरखापुर निवासी धर्मेंद्र कोरी की बीते रविवार की रात गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मृतक के ससुर रामदुलारे की तहरीर पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्जकर जांच शुरू की तो बगल के गांव आमपोखर निवासी मृतक का दोस्त जियालाल वर्मा शक के दायरे में आ गया। जियालाल के मोबाइल की काल डिटेल निकालने पर पता चला कि वह दिन में कई कई बार मृतक की पत्नी से बात किया करता था। जिसके बाद पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की। मंगलवार की सुबह प्रभारी निरीक्षक प्रेमचन्द्र सिंह ने जियालाल को मेला बगिया चौराहे के पास गिरफ्तार कर लिया। सीओ अमेठी अर्पित कपूर ने बताया कि पूछताछ में जियालाल ने बताया कि उसका धर्मेंन्द्र की पत्नी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसकी जानकारी जब धर्मेंद्र को हुई तो वह विरोध करने लगा। इसी बात से नाराज होकर उसने धर्मेंद्र को रास्ते से हटाने के लिए उसकी हत्या का प्लान बनाया और रविवार की रात धान की नर्सरी उखाड़ने के बहाने ले जाकर उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। जियालाल की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त तमंचा उसके घर के बगल छप्पर से बरामद कर लिया। सीओ ने बताया कि हत्याकांड में मृतक की पत्नी की भूमिका की जांच की जा रही है। वहीं बीते 28 जून को धर्मेंद्र पर हुए जानलेवा हमले में जियालाल की भूमिका के साक्ष्य भी तलाशे जा रहे हैं।

Edited By: Jagran