अमेठी : माता कालिकन धाम जाने वाले भक्तों को अब आवागमन में असुविधा का सामना नहीं करना पड़ेगा। शासन की ओर से मार्ग के दोहरीकरण की स्वीकृति मिल गई है। इसी के साथ विभाग की ओर से कार्यदायी संस्था नामित करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। सड़क का निर्माण आठ करोड़ 80 लाख की लागत से होगा।

पीएमजीएसवाई योजना के तहत पांच वर्ष पहले अमेठी कालिकन मार्ग का निर्माण कराया गया था। कालिकन धाम से प्रतापगढ़ के चंडिकन धाम तक बनी सड़क मरम्मत के अभाव में बदतर हो गई थी। विधायक गरिमा सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मार्ग बनवाने की मांग की थी। मार्ग गारंटी अवधि में होने के कारण पहले मार्ग पर पैचिग कराई गई। जिससे लोगों को थोड़ी राहत मिली। 31 मार्च को मार्ग की गारंटी अवधि समाप्त होने के बाद यह मार्ग पीडब्ल्यूडी को हैंडओवर कर दिया गया। विधायक की मांग पर अमेठी कालिकन मार्ग के दोहरीकरण की स्वीकृति मिली है। सात किलोमीटर मार्ग का निर्माण आठ करोड़ अठासी लाख की लागत से होगा। मौजूदा समय मे इस मार्ग की चौड़ाई तीन मीटर है। जो अब सात मीटर चौड़ी होगी। मार्ग दोहरीकरण कार्य से लोगों को आवागमन में काफी सहूलियत मिलेगी।

- इनकी भी सुनिए मार्ग छतिग्रस्त हो गया था। लोगों को आवागमन में समस्या थी। मार्च के बाद सड़क पीडब्लूडी को हैंडओवर हुई। सीएम से मांग की गई थी। मार्ग के दोहरीकरण की स्वीकृति मिल गई है।

अनंत विक्रम सिंह

विधायक प्रतिनिधि, अमेठी

सात किलोमीटर अमेठी कालिकन मार्ग का दोहरीकरण होगा। कार्यदायी संस्था नामित करने की प्रक्रिया चल रही है। इसके बाद निर्माण कार्य प्रारंभ होगा।

राकेश चौधरी, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी अमेठी

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप