अमेठी : केंद्रीय विद्यालय निर्माण को लेकर एक बार फिर अमेठी की सियासत गर्म हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष व स्थानीय सांसद राहुल गांधी ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र भेज कर अमेठी में केंद्रीय विद्यालय चलाने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि वर्ष 2013 में केंद्रीय विद्यालय बनने को मंजूरी मिली थी। इसके बाद भी आज तक विद्यालय शुरू नहीं कराया जा सका, जबकि अमेठी प्रशासन ने बीते वर्ष जमीन चिह्नित करने की अनुमति दे दी। इसके बाद भी अभी तक विद्यालय का संचालन शुरू नहीं हो सका। केंद्रीय विद्यालय के कमिश्नर ने वर्ष 2015 अप्रैल में बिना लागत भूमि की व्यवस्था की कर दी थी और अस्थायी रूप से विद्यालय चलाने की अनुमति दी थी, लेकिन विद्यालय का संचालन नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि विद्यालय शुरू होता तो बच्चों का भविष्य संवारने के साथ अब उसकी सुविधाओं में भी इजाफा हो जाता। राहुल ने एचआरडी मंत्री से केंद्रीय विद्यालय शुरू कराने का अनुरोध किया है। साथ अब तक न चलने की जानकारी भी मांगी है। राहुल गांधी के प्रतिनिधि धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि राहुल जी अमेठी के बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित है। उनकी मुख्य चिंता है कि अब तक अगर विद्यालय शुरू हो गया होता तो बच्चों का भविष्य संवार जाता साथ ही पांच वर्षो में विद्यालय भी आगे बढ़ जाता। वहीं सांसद प्रतिनिधि चंद्रकांत दुबे ने बताया कि कुछ लोग अमेठी को अपना धाम मान रहे हैं लेकिन यहां जो संस्थान चल रहे उनमें तो वह अतिथि के रूप में आ रहे है पर जिसको चलाने का प्रयास किया जा रहा है, उसके लिए वह थोड़ा सा भी फिक्रमंद नहीं है। वह बस नाम के लिए अमेठी को अपना बता रहे है।

Posted By: Jagran