बाजारशुकुल : महोना पूरब स्थित शेखवापुर गाव में स्थित इमामबाड़े में सिपाही के जूता पहनकर जाने से लोगों का गुस्सा भड़क गया। नाराज लोगों ने थानेदार व पुलिस कर्मी के खिलाफ नारेबाजी करते डायल 100 की टीम को बंधक बना लिया और तजिया दफन करने से भी इंकार कर दिया। आनन-फानन एसडीएम व सीओ भी गांव पहुंचे और सप्ताह भर में जांच कर कार्रवाई करने का भरोसा देते हुए लोगों को तजिया दफन करने के लिए तैयार किया।

बताते हैं कि रविवार की सुबह करीब आठ बजे किसी ने 100 डायल कर सूचना दी कि गाव में स्थित इमामबाड़े में गोकशी कर गोमास रखा गया है। सूचना पर गाव पहुंची टीम के सिपाही जूता पहने हुए इमामबाड़े में दाखिल हो गये। वहा ताजिया रखी थी। पुलिस के व्यवहार से ग्रामीण भड़क उठे और पुलिस के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए लामबंद हो गए। थानाध्यक्ष संतोष सिंह भी आरक्षियों के साथ गाव पहुंचे। भड़के ग्रामीणों ने थानाध्यक्ष की बात नहीं मानी और ताजिया दफ न न करने पर अड़ गए। और एसपी को गांव बुलाने की मांग करने लगे। एसडीएम महात्मा सिंह व सीओ सूक्ष्म प्रकाश के साथ प्रधान प्रतिनिधि केडी मिश्र, पूर्व प्रधान राजेंद्र प्रसाद व सैय्यद के समझाने बुझाने के बाद ग्रामीण माने और ताजिया दफ न करने को तैयार हुए।

-छह घंटे बंधक रही पुलिस

आठ बजे से बंधक बनी डायल 100 दो बजे ग्रामीणों से मुक्त हुई। छह घंटे की मशक्कत के बाद प्रशासन ने चैन की सास ली।

-ग्रामीणों ने पहले भी की थी शिकायत

डायल 100 व पुलिस की गोकशी को लेकर आये दिन दी जाने वाली दबिश से परेशान ग्रामीणों ने उच्च अधिकारियों को पहले भी लिखित शिकायत की थी। जिस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। ग्रामीणों की मानें तो पुलिस उन्हें आये दिन गोकशी का बहाना बनाकर परेशान करती रहती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप