अमेठी, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 के बाद अमेठी को दहला देने वाले भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह की हत्या के मामले में पुलिस को पांचवें दिन बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने इस हत्याकांड के मुख्य अभियुक्त गोलू को गिरफ्तार किया है।

केंद्रीय मंत्री तथा अमेठी की सांसद स्मृति ईरानी के बेहद करीबी भाजपा नेता व पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की हत्या के मामले में पुलिस को आज बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर सुरेंद्र सिंह की हत्या के पांचवें दिन फरार चल रहे मुख्य आरोपी गोलू सिंह को जामो थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में दूसरा मुख्य आरोपी वसीम अभी भी फरार चल रहा है। अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम ने बताया कि पीडि़त परिवार ने वसीम, नसीम, गोलू, धर्मनाथ और बीडीसी सदस्य (ब्लाक डेवलपमेंट कमेटी-क्षेत्र विकास समिति) रामचंद्र के खिलाफ सुरेन्द्र सिंह की हत्या के मामले में धारा 302 (हत्या) और 120-बी (आपराधिक साजिश) के तहत मुकदमा दर्ज कराया है। रामचंद्र बीडीसी सदस्य एवं कांग्रेस नेता है। अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि नसीम, वसीम और गोलू पर गोली मारने का आरोप है। प्रथमदृष्टया मामला लोकसभा चुनाव और पूर्व में पंचायत चुनाव के दौरान हुई रंजिश का होने की आशंका है।

अमेठी से नवनिर्वाचित सांसद स्मृति ईरानी के करीबी बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान की अज्ञात बदमाशों ने शनिवार गोली मारकर हत्या कर दी थी। मृतक के परिवार ने पांच लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने तीन आरोपियों को हिरासत में लिया था। पुलिस ने जिन संदिग्धों को पकड़ा था उनके नाम रामचंद्र, धर्मनाथ और नसीम है।

रविवार को स्मृति ईरानी दोपहर बाद बरौलिया गांव पहुंचीं और सुरेन्द्र सिंह की अंतिम यात्रा में शामिल हुईं। स्मृति ईरानी ने सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चढ़ाए। इस दौरान वह काफी भावुक हो गईं। स्मृति ने सिंह के पार्थिव शरीर को कंधा भी दिया। वह सुरेंद्र सिंह के परिवार वालों से मिलीं और उन्हें ढांढस बंधाया। सुरेन्द्र सिंह स्मृति ईरानी के बहुत करीबी माने जाते थे। स्मृति ने उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के कहा कि मैं इस घटना से बहुत दुखी हूं। स्मृति ने कहा कि अमेठी को आतंकित करने की नीयत से सुरेंद्र सिंह की हत्या की गई है। इस घटना के पीछे यही छिपा है कि अमेठी टूटे, अमेठी झुके। उन्होंने कहा कि भाजपा का 11 करोड़ का परिवार सुरेंद्र सिंह के परिवार के साथ खड़ा है। कानून की मर्यादा में रहकर दोषियों को सजा दिलाई जाएगी। सरकार और भाजपा संगठन दु:ख की इस घड़ी में परिवार के साथ है। दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जाएगी। जिसने गोली चलाई और जिसने गोली चलाने का आदेश दिया है, उसे फांसी के फंदे तक पहुंचाने के लिए आवश्यक हुआ तो उच्चतम न्यायालय तक जाएंगे। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप