अमेठी : इस बार धान खरीद में केंद्र प्रभारी व राइस मिलर कोई गड़बड़ी नहीं कर सकेंगे। शासन के आदेश पर धान खरीद केंद्रों व मिलों की जियो टैगिग कराई जा रही है। इसके लिए ब्लाकवार खरीद प्रभारियों को जिम्मेदारी दी गई है।

किसानों से सरकारी दर पर धान खरीद करने के लिए 56 केंद्र बनाए गए हैं। एक नवंबर से खरीद शुरू की जाएगी। केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा में बोरा व उपकरण उपलब्ध करा दिया गया है। पारदर्शी तरीके से धान खरीद करने के लिए केंद्रों की आनलाइन जियो टैगिग कराई गई है जिससे किसानों के साथ कोई गड़बड़ी न हो सके। इस बार किसानों की सुविधा का पूरा ध्यान देने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं, खरीदे गए धान को केंद्र से संबद्ध मिल पर भेजा जाता है। इसके लिए मिल की भी जियो टैगिग कराई जा रही है। जिले में साठ से अधिक मिलें हैं। इनमें से अब तक 50 मिलों की जियो टैगिग कराई जा चुकी है जिससे, खरीदे गए धान को इधर-उधर न ले जाया जा सके। विपणन शाखा प्रथम धान केंद्र प्रभारी प्रमोद यादव ने बताया कि उनके केंद्र पर किसानों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। आने वाले किसानों को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं होने पाएगी।

--------------

धान खरीद को लेकर सभी प्रकार की तैयारी पूरी कर ली गई है। केंद्र व मिलों की जियो टैगिग की जिम्मेदारी ब्लाकवार खरीद प्रभारियों को दी गई है जिससे पारदर्शी तरीके से धान खरीद कराई जा सके।

संतोष कुमार द्विवेदी, जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी, अमेठी

Edited By: Jagran