अमेठी, जेएनएन। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दो दिनी दौरे पर आने से पहले ही केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने महफिल लूट ली। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के राम प्रेम को काल्पनिक बताने के साथ धर्म को चुनाव स्टंट के रूप में प्रयोग करने वाला शख्स बताया।

लखनऊ से सड़क मार्ग से रायबरेली, जायस व गौरीगंज में भाजपा कार्यकर्ता के अभिवादन को स्वीकार करते हुए अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष को उनके संसदीय क्षेत्र में जमकर कोसा। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने संयुक्त जिला अस्पताल पहुंची स्मृति ने फीता काटकर सीटी स्कैन सेंटर का शुभारंभ किया। इसके बाद पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि आज अमेठी में यूपीए की दस साल के सरकार के बाद पहला सीटी स्कैन सेंटर तब खुल रहा है जब भाजपा की सरकार आई। यह तो साफ हो गया है कि राहुल गांधी विकास को लेकर भाजपा पर तंज कसते हैं लेकिन आज सामने आ गया है कि राहुल गांधी ने 15 साल  सांसद रहते हुए कोई काम नहीं किया।

उन्होंने कहा कि लगातार अमेठी से सांसद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का राम लला से कोई वास्ता नहीं है। इसी बीच उनकी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रामलला के न होने का एफिडेविट दिया है। राहुल गांधी के लिए धर्म तब चुनावी एजेंडा है,जब उनके सिर पर चुनाव आता है। वह तो धर्म के तवे पर रोटियां सेंकते हैं। स्मृति ईरानी ने कहा कि राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश और संसद में भाजपा के पक्ष रखने के बावजूद ये सत्य उनकी समझ नहीं आ रहा। वे झूठ के सहारे अपनी राजनीति करना चाह रहे हैं। उनके लिए यह विषय इतना महत्वपूर्ण नहीं है। अगर होता तो कांग्रेस के सांसद देश की स्पीकर पर कागज न फेंकते। अगर वे करप्शन की बात करते हैं तो उन्हें बताना चाहिए कि मिशेल किस इटैलियन लेडी और बेटे आर का नाम ले रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि 2014 में हमने जनता से वायदा किया था कि राहुल गांधी के दर्शन बार-बार होंगे। आज वही हो रहा है। फर्क यह है कि जब भाजपा के कार्यकर्ता आते हैं तो विकास होता है जबकि राहुल गांधी आते हैं तो स्वागत करवाने आते हैं। कांग्रेस की होर्डिंगों पर कमलनाथ के विरोध में लगे पोस्टरों पर उन्होंने कहा कि राहुल ने कमलनाथ के उत्तर प्रदेश के लोगों को नौकरी न देने की शक्ति कही तो राहुल गांधी ने विरोध नहीं किया।

उन्होंने कहा राहुल को महागठबंधन में बसपा, सपा तथा ममता किसी से आशीर्वाद नहीं मिला। राम मंदिर मुद्दे पर कांग्रेस के नेता गतिरोध पैदा न करें। राहुल गांधी ने आज स्पष्ट किया कि राम लला और मंदिर से उनका कोई वास्ता नहीं। देश की जनता को उनके इस वक्तव्य से बिल्कुल अचंभित होने की जरूरत नहीं क्योंकि यह वही गांधी परिवार है जिसने एक न्यायालय में ये शपथ पत्र दिया था कि भगवान राम का कोई अस्तित्व ही नहीं है। राहुल गांधी ने विकास की बात की आज उनके लोकसभा क्षेत्र में एक अस्पताल में सीटी स्कैन की जांच उपलब्ध होना वह भी उनके हाथों नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में भाजपा द्वारा किया जा रहा है। यह बात साबित करती है कि राहुल गांधी अपने लोकसभा क्षेत्र में विकास करने में कितने विफल है। यहां से 60 किलोमीटर दूर अयोध्या नगरी है। आज वहां के लोगो को भी पता चल गया कि राहुल के मन मे राम लला के प्रति क्या है। राहुल का एजेंडा धर्म तब होता है जब उनको धर्म के तवे पर राजनीतिक रोटियां सेकनी होती है। 

यह भी देखें: चाय की चुस्कियों के साथ स्मृति ईरानी का अमेठी दौरा, PHOTOS में देखें अलग अंदाज

सिर्फ स्वागत करवाने आते हैं राहुल 

स्मृति ईरानी ने कहा कि राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश और संसद में भाजपा के पक्ष रखने के बावजूद ये सत्य उनकी समझ नहीं आ रहा। वे झूठ के सहारे अपनी राजनीति करना चाह रहे हैं। उनके लिए यह विषय इतना महत्वपूर्ण नहीं है। अगर होता तो कांग्रेस के सांसद देश की स्पीकर पर कांग्रेस के नेता कागज न फेंकते। उन्होंने कहा कि 2014 में हमने जनता से वायदा किया था कि राहुल गांधी के दर्शन बार-बार होंगे। आज वही हो रहा है।फर्क यह है कि जब भाजपा के कार्यकर्ता आते हैं तो विकास होता है, जबकि राहुल स्वागत करवाने आते हैं।

कमलनाथ के बयान पर राहुल को घेरा 

कांग्रेस की होर्डिंगों पर कमलनाथ के विरोध में लगे पोस्टरों पर उन्होंने कहा कि राहुल ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के उत्तर प्रदेश के लोगों को नौकरी न देने की बात कही तो राहुल गांधी ने विरोध नहीं किया।उन्होंने कहा कि राहुल को महागठबंधन में बसपा,सपा,ममता किसी से आशीर्वाद नहीं मिला।

जनेऊ धारी सिर्फ चुनाव के समय ही दिखाई देते हैं 

गौरीगंज पहुंची मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव की यादें एक बार फिर से ताजा हो रही हैं। वहीं, राहुल के बयान ''अयोध्या का राम मंदिर मुद्दा नहीं'' पर स्मृति ने तंज कसते हुए कहा कि जनेऊ धारी सिर्फ चुनाव आने के समय ही दिखते हैं। राम मंदिर उनको मुद्दा नहीं दिख रहा। पूरी जनता उनके इस हिंदुत्व के ढोंग को देख रही है। 2019 में अमेठी की जनता मोदी को एक बार पुनः प्रधानमंत्री बनाएगी। स्मृति ने कहा कि वह अपने मां-पिता की पहचान लेकर चल रहे है। अमेठी में उनके द्वारा कोई विकास नहीं कराया गया। यहां के सैकड़ों किसानों की जमीन को ट्रस्ट के बहाने हड़प लिया गया है, जिसके मुखिया राहुल गांधी है। अमेठी के किसानों को खाद  के लिये लाठियां खानी पड़ी थी। भाजपा की केंद्र में सरकार बनने के बाद यहां खाद रैक प्वाइंट की स्थापना हुई है। चुनाव हारने के बाद हमने यहां विकास किया है।

सीटी स्कैन सेंटर का किया शुभारंभ

जायस से होकर केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी गौरीगंज पहुंची। यहां इन्होनें संयुक्त जिला अस्पताल में फीता काटकर सीटी स्कैन सेंटर का शुभारंभ किया। वहीं, गौरीगंज स्थित एक ढाबे पर चाय पीकर लोगों से बात की।इसके बाद फुरसतगंज में उनका जोरदार स्वागत किया गया। यहां पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता एकत्र थे। उनके साथ महिलाओं ने भी उनका स्वागत किया। अमेठी के के फुरसतगंज में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी है। जहां पर कमर्शियल पाटलट को प्रशिक्षण दिया जाता है।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस