अमेठी, जेएनएन। जिले की शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने नए प्रयोग करने की सलाह अधिकारियों और शिक्षकों को दी हैं। मंगलवार को जिला अस्पताल व विद्यालयों के निरीक्षण के उपरांत उन्होंने मुंशीगंज के एचएएल गेस्ट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर सभी को निर्देशित किया। राज्यपाल और सांसद ने जिले के अधिकारियों शिक्षकों और स्वास्थ्य विभाग के लोगों के साथ बैठक  कर पढ़े अमेठी के नाम से एक नया प्रोग्राम शुरू करने का निर्देश दिया। टीवी मुक्त भारत के सपने को साकार करने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों को एक-एक बच्चे को गोद लेने का निर्देश दिया।

शून्य से अठारह साल की उम्र के बच्चों को छह माह के भीतर स्वस्थ करने की जिम्मेदारी जिले के आठ स्वयंसेवी संगठनों को सौपी गई है। प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार को सभी स्कूलों में क्रिया कलाप आधारित गतिविधियां आयोजित करने का निर्देश दिया। प्रत्येक माह पेंटिंग रीडिंग, संगीत क्विज और स्पोट्र्स काम्पिटीशन आयोजित करने की भी योजना बनाने का निर्देश दिया। रूचि के मुताबिक बच्चो को 45 मिनट का पढऩ पाठन और अन्य क्रियाकलाप करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी को अभियान के लिये समय देने का निर्देश दिया। बैठक एडीएम वंदिता श्रीवास्तव, सीएमओ डा. आरएम श्रीवास्तव, बीएसए विनोद मिश्र व अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। 


भाजपा नेताओं से सांसद ने कराया परिचय

राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री ने एचएएल गेस्ट हाउस में लंच किया। लंच के बाद उन्होंने जिले के प्रमुख भाजपा नेताओं के साथ मुलाकात की। सांसद ने राज्यपाल से पार्टी नेताओं का परिचय कराया। इस मौके पर राज्यमंत्री सुरेश पासी, विधायक गरिमा सिंह, मयंकेश्वर सिंह, दल बहादुर कोरी, जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी, लोक सभा संयोजक राजेश अग्रहरि, पूर्व विधायक तेजभान सिंह, पंडित जमुना मिश्रा, उमाशंकर पांडेय, केशव सिंह, सुधांशु शुक्ला, आशा बाजपेयी, भवानी दत्त दीक्षित सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप