अंबेडकरनगर : बाजारों में यूरिया 400 रुपये में बेची जा रही है, लेकिन कृषि अधिकारी इस अवैध करोबार को रोकने में पूरी तरह से विफल हैं। किसानों द्वारा शिकायत करने पर दुकानों की जांच करने के बजाय विभाग लीपापोती कर देता है। माइनरों की सफाई भी नहीं हो सकी है। इससे नहरों के टेल तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है। कुछ ऐसी ही समस्याओं को लेकर ¨सचाई बंधु की बैठक में किसानों ने अधिकारियों के समक्ष रखे। बाजारों में मनमाने ढंग से यूरिया का दाम बढ़ाकर बेचने पर सफाई देते हुए जिला कृषि अधिकारी डॉ. धर्मराज ¨सह ने बताया कि इस खरीफ के सीजन में सहकारी समितियों पर यूरिया समय से नहीं आई। इस कारण बाजारों में बढ़े दाम पर बेचा गया। बैठक के दौरान किसान चंद्रभूषण तिवारी ने ¨सचाई बंधु के उपाध्यक्ष दिलीप कुमार तिवारी से शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि अकबरपुर ब्लॉक के ग्राम खपुरा में लगे नलकूप का खंभा टूट गया है। इससे दुर्घटना की संभावना बनी हुई है। महरीपुर कैनाल में पानी नहीं आने से किसानों को परेशानी हो रही है। ¨सचाई बंधु के उपाध्यक्ष ने बताया कि किसानों की जो समस्याएं है उसे संबंधित अधिकारी जल्द से जल्द निस्तारण करें। अन्यथा अधिकारियों की शिकायत संबंधित मंत्रियों से की जाएगी। किसान अमरजीत वर्मा ने बताया कि बैठक में कोई भी जनप्रतिनिधि नहीं आया और न ही विद्युत, एआर कोऑपरेटिव, भूमि संरक्षण अधिकारी, उद्यान अधिकारी भी बैठक में नहीं आए। इससे किसानों की समस्याओं का निस्तारण नहीं हो सका। किसानों ने जमुनीपुर तथा तिघरा नहर के बीच रेगुलेटर लगवाने की मांग किया। इसके अलावा जिला कृषि अधिकारी की लगातार शिकायत किसानों ने किया। इसमें ऋणमोचन में जानकारी न देना, किसानों की समस्या का न सुनना तथा कार्यालय से गायब रहना मुख्य शिकायत रहीं। बैठक में ¨सचाई खंड टांडा अधिशाषी अभियंता बीसी लाल, अधिशाषी अभियंता नलकूप, जिला कृषि अधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran