अंबेडकरनगर : जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में संयुक्त जिला चिकित्सालय सभागार में मंगलवार को कुपोषण विषय पर विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। प्राधिकरण सचिव आलोक कुमार ¨सह ने बताया कि कुपोषण की रोकथाम एवं उपचार के लिए अस्पताल में साप्ताहिक टीकाकरण, प्रसव के उपरांत शीघ्र स्तनपान कराने तथा छह माह तक मां का दूध पिलाने व पूरक आहार दिए जाने आदि के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि कुपोषण एक अभिशाप है। इसे समाप्त करने के लिए हम सबको मिलकर कदम उठाने पड़ेंगे नहीं तो बिना स्वस्थ समाज के स्वस्थ भारत की कल्पना नहीं की जा सकती है। सचिव ने बताया कि माता एवं बच्चे के स्वास्थ यदि ठीक रहा तो ही बच्चा आगे चलकर राष्ट्र का नाम रोशन करेगा। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एसपी गौतम ने बताया कि हमारे देश में कुपोषण एक गंभीर समस्या बन गई है। इसका प्रमुख कारण बढ़ती जनसंख्या और घटते संसाधन। देश में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। इस पर रोक नहीं लगाई गई तो कुपोषण की समस्या विकराल रूप धारण कर लेगी। संचालन अधिवक्ता रामचंद्र वर्मा ने किया। बाल कल्याण समिति अध्यक्ष राजीव ¨सह, संतोष कुमार, सविता वर्मा, रेनू कन्नौजिया, राकेश चंद्र श्रीवास्तव, पंकज नायक, राहुल यादव, सौरभ ¨सह, शेषमणि, देव नारायण, गीतांजलि व प्रदीप तिवारी आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran