अंबेडकरनगर : प्रदेश के टॉप मोस्ट अपराधियों में शामिल टांडा निवासी माफिया खान मुबारक के तिलिस्म को जिला प्रशासन और पुलिस ने तबाह करना शुरू कर दिया है। काली कमाई से बनाए गए माफिया के कॉम्प्लेक्स को पुलिस ने मंगलवार को ढहा दिया।

अपराधी मुबारक खान पर काली कमाई के जरिए करोड़ों रुपये की संपत्ति खड़ी करने का आरोप है। उसने काफी संपत्ति अपनी बहन सब्बो के नाम भी खरीद रखी है। हंसवर बाजार में सब्बो के नाम से ही एक कॉम्प्लेक्स है, जिसमें करीब 20 दुकानें हैं। मंगलवार को पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी और एसडीएम टांडा अभिषेक पाठक के नेतृत्व में पुलिस ने गैंगस्टर अधिनियम के तहत जारी आदेश का अनुपालन कराया। सब्बो के नाम पर दर्ज हंसवर बाजार में करीब एक करोड़ 40 लाख रुपये कीमत की 20 दुकानों पर पुलिस की मौजूदगी में प्रशासन का बुलडोजर चला।

दुकानों को ध्वस्त करने से पहले पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए। हंसवर बाजार के सभी मार्गों पर आने-जाने की पाबंदी लगा दी गई। आसपास के थानों की पुलिस ने दोपहर बाद कार्रवाई शुरू की। पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी माफिया खान मुबारक की संपत्ति कुर्क करने के साथ ही काली कमाई से बनाई गई 20 दुकानों को ध्वस्त करा दिया गया है।

माफिया पर दर्ज हैं 35 मुकदमे : हंसवर थाना क्षेत्र के हरसंभार गांव निवासी माफिया खान मुबारक पर प्रदेश के विभिन्न थानों में कुल 35 मुकदमे दर्ज हैं। इसमें से तीन मामलों में पुलिस ने जमानत वापसी की अर्जी न्यायालय में दी है। उसकी करीब चार करोड़ की चल-अचल संपत्ति पुलिस पहले ही जब्त कर चुकी है। खान मुबारक का नाम ऐनुद्दीन, शेरू, जुरगाम मेंहदी, शकील, शोएब और मोहन यादव हत्याकांड में भी आ चुका है।

Edited By: Jagran