प्रयागराज, जेएनएन। धूमनगंज इलाके में सोमवार की शाम बेबी (40) की गोली मारकर हत्या कर दी गई। उसके पति का कहना है कि बाइक पर जाते वक्त मुंडेरा मंडी के पास गोली मारी गई। आरोप लगाया कि अतीक अहमद के खिलाफ दर्ज मुकदमे में गवाह होने की वजह से उस पर हमला किया गया था लेकिन उसकी पत्नी हमले का शिकार हो गई। इस मामले में दो लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है।

बाइक पर पत्नी पीछे बैठी थी, गोली मारी गई

मूल रूप से सिलना पीपल गांव निवासी मोहम्मद रईस हरवारा में प्रापर्टी कारोबारी अशरफ के साथ रहता है। उसकी पत्नी बेबी (40) भी अशरफ के ही घर में काम करती थी। सोमवार शाम रईस गोली लगने से घायल हुई पत्नी बेबी को मुंडेरा में निजी अस्पताल ले गया। वहां से रात में स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल ले जाकर ट्रामा सेंटर में भर्ती किया। तभी पुलिस को भी यह खबर मिल गई और पुलिस अधिकारी भी वहां पहुंच गए। रईस ने पुलिस को बताया कि शाम पांच बजे वह पत्नी और अपने चचेरे भाई साहबान के साथ हरवारा लौट रहा था। बाइक साहबान चला रहा था। वह बीच में और पत्नी बेबी पीछे बैठी थी। मुंडेरा मंडी गेट नंबर दो के पास बेबी चलती बाइक से गिर गई। रईस का कहना है कि तभी उसने दो लोगों को सड़क पार कर भागते देखा। बेबी के पेट के पास गोली लगी थी। उसे पहले स्थानीय निजी अस्पताल ले जाया गया। वहां से प्राथमिक उपचार के बाद एसआरएन अस्पताल में भर्ती किया मगर उसकी जान नहीं बची।

अतीक के खिलाफ दर्ज मुकदमे में गवाह है पति, गोली मारने वाले को पहचाना

 रईस ने कहा कि उसने मुंडेरा के ननकू यादव और साकेत नगर के सलाउद्दीन को भागते देखा था। यह भी बताया कि वह खुद अशरफ द्वारा अतीक अहमद के खिलाफ दर्ज मुकदमे में गवाह है। गोली मारने वालों के बारे में कहा कि वह अतीक गिरोह से जुड़े हैं। रईस ने कहा कि गोली तो उसे मारी गई होगी जो पत्नी को लग गई। घटना की खबर पाकर हरवारा से अशरफ भी पहुंच गया। पिछले महीने पुलिस ने अशरफ को एक मुकदमे में गिरफ्तार किया था, एक हफ्ते पहले ही वह छूट कर आया है। रईस ने ननकू यादव और सलाउद्दीन के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। एसपी सिटी का कहना है कि छापेमारी कर दो लोगों को पकड़कर पूछताछ की जा रही है। पता चला है कि रईस की पहली पत्नी और बच्चों का निधन हो चुका है। बेबी दूसरी पत्नी थी।

घटनास्थल पर भी पुलिस को संशय

एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव का कहना है कि घटना की गहराई से जांच की जा रही है। इसमें घटनास्थल को भी लेकर संशय है। यह भी शक है कि गोली मरियाडीह में मारी गई थी। घटना के वक्त को लेकर भी  अलग-अलग बयान आए हैं। चचेरे भाई ने दोपहर दो बजे का वक्त बताया जबकि रईस ने शाम पांच बजे।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस