प्रयागराज, जेएनएन। पूना से लौटते समय छिवकी रेलवे स्टेशन से गायब हुए बृजेश की हत्या उसकी पत्नी ने ही कराई थी। पत्नी के प्रेमी ने अपने हिस्ट्रीशीटर दोस्त के साथ बृजेश को कौशांबी जिले में गंगा नदी में फेंक दिया था। पुलिस ने पत्नी, प्रेमी और हिस्ट्रीशीटर को हिरासत में ले लिया है। तीनों आरोपितों को प्रतापगढ़ के कुंडा से पकड़कर नैनी पुलिस ले गई।

पूना में बृजेश करता था नौकरी, ट्रेन से छिवकी स्टेशन पर उतरा था

प्रतापगढ़ में मानिकपुर थाना क्षेत्र के कमंडीचक निवासी बृजेश गुप्ता (28) पुत्र अमृतलाल पूना में नौकरी करता था। वह 13 अक्टूबर को घर आ रहा था। वह ट्रेन से प्रयागराज जिले के छिवकी रेलवे स्टेशन पर उतरा। इसके बाद वह घर नहीं पहुंचा। परिजनों ने उसकी काफी खोजबीन की थी लेकिन बृजेश का पता नहीं चल सका। इसके बाद बृजेश के परिजनों ने नैनी थाने में गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज कराया था। बाद में 28 अक्टूबर को परिजनों ने मानिकपुर थाने में तहरीर दी थी।

छिवकी स्टेशन पर लगे सीसीटीवी फुटेज से पुलिस को क्लू मिला फिर गिरफ्तारी की

नैनी पुलिस ने छिवकी रेलवे स्टेशन पर लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तो उसे बृजेश के ससुराल का एक युवक दिखा था। इसके बाद पुलिस ने बृजेश की पत्नी रंजना पुत्री मुन्नीलाल का कॉल डिटेल खंगाला तो पता चला कि उसकी मायके के गांव के राजपाल यादव से लंबी बात होती थी। इस बीच शक के आधार पर पुलिस ने शनिवार को रंजना, राजपाल और हिस्ट्रीशीटर सुनील यादव निवासी जाखामई को हिरासत में ले लिया। पुलिस की पूछताछ में राजपाल ने सारा राज उगल दिया।

शादी के बाद भी राजपाल का बृजेश की पत्नी रंजना से मिलना-जुलना नहीं हुआ बंद

मानिकपुर थाने के एसओ डीएन यादव ने बताया कि राजपाल ने कबूल किया कि वह शादी के पहले से रंजना से प्यार करता था। बाद में रंजना की शादी बृजेश से हो गई लेकिन उसका रंजना से बातचीत और मिलना जुलना बंद नहीं हुआ। पूना में नौकरी करने के दौरान वहां बृजेश की दोस्ती दिनेश यादव निवासी पनाहनगर, महेशगंज से हो गई। इससे दिनेश का भी बृजेश के घर आना-जाना हो गया। बृजेश ने कुछ माह पूर्व दिनेश से पैसा घर भेजवाया था। आने-जाने के दौरान रंजना की दोस्ती दिनेश से भी हो गई। रंजना ने राजपाल और दिनेश के साथ बृजेश को रास्ते से हटवाने की योजना बनाई। इसके लिए रंजना ने 47 हजार रुपये राजपाल व दिनेश को दिया था। बृजेश की हत्या करने के लिए राजपाल ने गांव के हिस्ट्रीशीटर सुनील यादव की मदद ली।

नशीली गोली खिलाकर अचेत करने के बाद बाइक से गंगा नदी में फेंक दिया

एसओ ने बताया कि 13 अक्टूबर को बृजेश के प्रयागराज के ङ्क्षछवकी स्टेशन पर उतरने की जानकारी रंजना ने राजपाल को दी। राजपाल अपने साथी सुनील के साथ बाइक से छिवकी रेलवे स्टेशन पहुंचा। दोनों ट्रेन से उतरे बृजेश को अपनी बाइक पर बैठाकर नैनी सेंट्रल जेल के पास ले गए। वहां उसे नशीली गोली खिलाकर बाइक पर बैठाकर घर के लिए निकले। राजपाल, सुनील यादव बृजेश को लेकर  कौशांबी गंगा पुल पर पहुंचे और उसे बाइक से उतारकर मोबाइल सहित गंगा नदी में फेंक दिया। इसके बाद राजपाल, सुनील घर चले गए।

पत्नी समेत तीन गिरफ्तार, चौथे फरार आरोपित को पुलिस की तलाश

इस मामले में बृजेश के भाई ने 14 अक्टूबर को नैनी थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। एसओ डीएन यादव ने बताया कि पूछताछ के बाद बृजेश की पत्नी रंजना, राजपाल, सुनील कुमार को नैनी पुलिस को सौंप दिया क्योंकि मुकदमा वहीं दर्ज है और घटना भी नैनी थाना क्षेत्र की थी। चौथा आरोपित दिनेश कुमार फरार है, उसकी तलाश की जा रही है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस