प्रयागराज : इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीसीबी छात्रावास में बुधवार की रात छात्रनेता अच्युतानंद की हत्या के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने सख्त कदम उठाए हैं। शुक्रवार को विश्वविद्यालय ने कई छात्रावासों के वार्डेन व सुप्रिंटेंडेंट बदल दिए। सभी छात्रावासों में सुरक्षा गार्ड तैनात करने व अवैध रूप से रह रहे अराजकतत्वों को बाहर करने का भी निर्णय लिया गया है।

 कुलपति के आदेश पर हिंदी विभाग के प्रोफेसर संतोष भदौरिया को जीएनझा छात्रावास का वार्डेन व इसी विभाग के प्रो. शिव प्रसाद शुक्ला को एसएसएल छात्रावास का वार्डेन बनाया गया है। हिंदी विभाग के प्रो. योगेंद्र प्रताप सिंह को ताराचंद्र छात्रावास का वार्डेन बनाया गया है। हिंदी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. राकेश सिंह को ताराचंद्र का सुप्रिंटेंडेंट व इसी विभाग के डॉ. संतोष कुमार सिंह को एसएसएल छात्रावास का सुप्रिंटेंडेंट बनाया गया है।

 एंथ्रोपोलॉजी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. राहुल पटेल को पीसीबी छात्रावास व हिंदी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. वीरेंद्र सेन को डायमंड जुबली छात्रावास का सुप्रिंटेंडेंट, डॉ. विनम्र सेन सिंह को हॉलैंड हॉल का असिस्टेंट सुप्रिंटेंडेंट बनाया गया है। हिंदी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर  डॉ. अमरेंद्र त्रिपाठी को वार्डेन बनाया गया है। इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. महेंद्र तिवारी को हिंदू छात्रावास का सुप्रिंटेंडेंट बनाया गया है।

 अभी तक डायमंड जुबली छात्रावास के सुप्रिंटेंटेंडेंट का कार्य डॉ. राजीव गिरी देख रहे थे। हिंदू छात्रावास के डॉ. राहुल पटेल, डॉ. ताराचंद्र छात्रावास के डॉ. अखिलेश चंद्र पांडेय, पीसीबी के डॉ. विवेक कुमार पांडेय, जीएनझा के डॉ. कार्तिकेय मिश्रा, एसएसएल के डॉ. शैलेंद्र कुमार मिश्र सुप्रिंटेंडेंट थे।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप