इलाहाबाद : अब इंतजार की घडिय़ां खत्म होने को है। अगले कुछ ही दिनों में कोलकाता का प्रख्यात हाटकेश्वर मंदिर की छवि शहर में भी देखने को मिली। इसकी तैयारियां भी जोरों पर है। अगले कुछ दिनों तक लोगों को हाटकेश्वर मंदिर की भव्यता के लिए कोलकाता जाना नहीं पड़ेगा। 

 जी हां यहां बात हो रही है दुर्गा पंडाल की। नवरात्र के दिनों में शहर में दर्जनों स्थानों पर आकर्षक पंडालों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। सभी बारवारी कमेटियां दुर्गा पूजा पंडालों को दूसरों से अलग दिखाने की होड़ में शामिल हैं। इसकी तैयारियां पिछले एक पखवाड़े से चल रही है। कोलकाता के कलाकार यहां आकर टिके हैं और पूजा पंडालों को बनाने में जुटे हैं। शारदीय नवरात्र की पंचमी के दिन पूजा पंडालों में दुर्गा प्रतिमाओं को स्थापित किया जाएगा।

 इसी क्रम में गोविंदपुर दुर्गा पूजा कमेटी अपने 37वें साल में पंडाल को हाटकेश्वर मंदिर के स्वरूप में बनवा रही है। कोलकाता से आए दो दर्जन कारीगर एक माह से इसके निर्माण में लगे हुए हैं। इसमें कपड़े के साथ प्लाई, सूखे पत्ते, नारियल का जूट और गत्ते का प्रयोग किया जा रहा है। इसके बाद पेंटिंग करके उसे प्राचीनता का स्वरूप दिया जा रहा है। इससे भक्तों को पंडाल पत्थर से बना हुआ नजर आएगा। पंडाल का निर्माण करा रहे सत्यप्रकाश बताते हैं कि हम अद्भुत स्वरूप देने के लिए प्रयासरत हैं।

देंगे पर्यावरण संरक्षण का संकल्प :

गोविंदपुर दुर्गा पूजा कमेटी के अध्यक्ष एके जिंदल व उपाध्यक्ष विनोद गुप्त बताते हैं कि पंडाल में आने वाले भक्तों को पर्यावरण संरक्षण का संकल्प दिलाया जाएगा। पेड़ों को बचाने, नदियों को स्वच्छ रखने में हर व्यक्ति योगदान दे, इसके मद्देनजर जागरूकता फैलाई जाएगी।

Posted By: Brijesh Srivastava