प्रयागराज, जागरण संवाददाता। विधान सभा चुनाव 2022 को लेकर सरगर्मी बढ़ रही है। भाजपा, सपा, बसपा, कांग्रेस जैसे बड़े दल के साथ क्षेत्रीय दलों ने भी सक्रियता बढ़ा दी है। कहीं जातीय सम्मेलन हो रहे हैं तो कहीं कार्यकर्ता सम्मेलन। इसी कड़ी में विकासशील इंसान पार्टी (वीआइपी) भी निषाद समाज की हिमायती बनकर मैदान में ताल ठोक रही है। यह दल अभी बिहार में एनडीए के साथ है। उत्तर प्रदेश में इसकी रणनीति कुछ अलग है।

बिहार के मंत्री सहनी का प्रयागराज चुनावी दौरा

विकासशील इंसान पार्टी सुप्रीमो व बिहार सरकार के मत्स्य एवं पशुपालन विभाग के मंत्री मुकेश सहनी शनिवार को प्रयागराज में थे। अनौपचारिक बातचीत में उन्होंने बताया कि आगामी विधानसभा चुनाव में उनका दल निषादों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 165 सीट पर मैदान में उतरेगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि निषाद समाज के लिए विशेष आरक्षण की व्यवस्था नहीं होती है तो वह अलग चुनाव लड़ेंगे। सपा, बसपा, कांग्रेस व भाजपा से समझौता नहीं करेंगे। हां क्षेत्रीय स्तर पर समाज विचारधारा वाली पार्टियों के साथ गठबंधन कर सकते हैं।

भाजपा के पाले में आने का दिया संकेत पर इन शर्तों के साथ ही

केंद्र और प्रदेश सरकार को स्पष्ट शब्दों में मुकेश सहनी ने संदेश दिया कि यदि निषाद समाज के हित में ठोस कदम उठाए जाते हैं तो भाजपा के साथ आ जाएंगे। एनजीटी की ओर से मल्लाहों द्वारा नदी से बालू खनन प्रतिबंधित करने पर भी वीआईपी मुखिया ने नाराजगी जताई। कहा, पुश्तैनी काम बंद करा देने से तमाम परिवारों के समक्ष आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। इस दिशा में भी सरकार को जल्द ठोस कदम उठाना होगा। तालाबों के पट्टे देने की वर्तमान नीति पर भी विकासशील इंसान पार्टी के मुखिया ने नाराजगी जताई। कहा, जरूरतमंदों को सरकारी न्यूनतम दर पर पट्टा दिया जाना चाहिए।

सहनी ने चुनावी सभाओं को संबोधित किया

चुनावी चर्चा को आगे बढ़ाते हुए उन्‍होंने कहा कि 2024 में उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में भी पार्टी अपने उम्मीदवार उतारेगी। उम्मीद है 15 से 20 उम्मीदवार जीत हासिल करेंगे। अभी से समाज के लोगों को संगठित किया जा रहा है। पार्टी की मजबूती के लिए एक दिन पूर्व मुकेश सहनी ने शहर मेंं तमाम चुनावी सभाओं को भी संबोधित किया। अपने कार्यक्रमों की शुरुआत उन्होंने वीर एकलव्य की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पिछड़े व दलित समाज को साथ लेने के संदेश के साथ की। स्वयं को निषाद समाज का नेता भी घोषित किया।

Edited By: Brijesh Srivastava