प्रयागराज, जेएनएन। संगमनगरी प्रयागराज में दस जून को जुमे की नमाज के बाद हिंसा के मामले में आरोपितों पर पुलिस का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है। मुख्य आरोपित जावेद मोहम्मद उर्फ पंप के मकान पर बुलडोजर की कार्रवाई के बाद अब फरार पांच आरोपितों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया गया है।

प्रयागराज में दस जून को जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा मामले में फरार चल रहे पांच आरोपियों पर पुलिस ने 25-25 हजार रुपया का इनाम घोषित कर दिया है। पुलिस ने उमर खालिद, पार्षद फजल खां, शाह आलम, आशीष मित्तल तथा जीशान रहमानी पर शिकंजा कस दिया है। यहां हिंसा के मामले में खुल्दाबाद थाना से इनाम घोषित किया है।

जावेद का कानपुर कनेक्शन : प्रयागराज में अटाला मस्जिद में दस जून को जुमे की नमाज के बाद उपद्रवियों के मास्टर माइंड जावेद मोहम्मद उर्फ पंप का तीन जून को कानपुर हिंसा से कनेक्शन सामने आ रहा है। अटाला बवाल के मास्टरमाइंड जावेद मोहम्मद उर्फ जावेद पंप जेल में बंद है। उसके खिलाफ पुलिस की पड़ताल तेज होने के बाद कानपुर ङ्क्षहसा से कनेक्शन सामने आ रहा है। पुलिस की जांच में पता चला है कि तीन जून को कानपुर में घटना होने के बाद जावेद ने चार जून को फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट की थी। इसके बाद कानपुर के एक युवक से भी जावेद मोहम्मद उर्फ पंप लगातार फोन पर संपर्क में था। प्रयागराज की हिंसा तथा उपद्रव के मामले में जावेद मोहम्मद की बेटी आफरीन की भूमिका को लेकर भी पड़ताल चल रही है।

गुस्से में की थी आपत्तिजनक पोस्ट : प्रयागराज में अटाला में हिंसा के मास्टरमाइंड जावेद मोहम्मद उर्फ पंप को प्रयागराज से देवरिया जेल शिफ्ट किया गया है। उसने प्रयागराज से देवरिया जाने से पहले पुलिस से कहा कि कानपुर की घटना के बाद वह काफी गुस्से में था। इसी कारण उसने फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट की थी। चार जून को फेसबुक पर लिखा था कि उसे न्यायालय पर विश्वास नहीं है। सरकार मुस्लिम विरोधी कार्य कर रही है। उसने घर से बरामद तमंचा और कारतूस के बारे में कुछ नहीं बताया। सिर्फ इतना ही कहा कि उसे मालूम नहीं है कि उसके घर में किसने असलहा रखा। जब उसके मकान से तमंचा बरामद किया गया था, तब वह जेल में बंद था। दो दिन की पूछताछ के बाद पुलिस ने जावेद को रविवार रात देवरिया जेल भेज दिया। उसे पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही थी। 

Edited By: Dharmendra Pandey