इलाहाबाद (जागरण संवाददाता)। नगर निगम सदन में राष्ट्रगीत वंदेमातरम गायन अब अनिवार्य होगा। सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले वंदेमातरम गायन होगा। गायन के दौरान महापौर, सभी पार्षद व अधिकारी सावधान अवस्था में खड़े होंगे। जबकि सदन की समाप्ति राष्ट्रगान से होगी। यह निर्णय निर्वाचित महापौर अभिलाषा गुप्ता ने लिया है।

अभिलाषा गुप्ता ने यह निर्णय मेरठ व अलीगढ़ के महापौर द्वारा सदन में वंदेमातरम गायन पर रोक लगाने के बाद लिया है। भाजपा के टिकट से दूसरी बार नगर निगम के सदन पहुंचीं अभिलाषा गुप्ता का कहना है कि वंदेमातरम् भारत की आन, बान, शान का प्रतीक है। मुस्लिमों द्वारा वंदेमातरम् का विरोध करने के प्रश्न में उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है। हमारा राष्ट्रगीत सबको जोड़ने व साथ लेकर चलने का संदेश देता है, ऐसे में यह किसी जाति-धर्म के खिलाफ कैसे हो सकता है।

यह भी पढ़ें: मुरादाबाद में इज्तेमा के आखिरी दिन उमड़ी हजारों की भीड़

यह समझ का फेर है, वंदेमातरम तो हर भारतवासी के स्वाभिमान से जुड़ा है। इसलिए उसका गायन अनिवार्य किया गया है। अगर कोई वंदेमातरम गायन का विरोध करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी, भले वह कोई भी हो। अनुशासनहीनता किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यह भी पढ़ें: ट्रिपल तलाक पर पीएम मोदी को धन्यवाद देना पड़ा महंगा, पति ने दिया तलाक

Posted By: Amal Chowdhury

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप