प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से परिणाम तक अव्यवस्था हावी रही। इस दौरान तमाम कर्मचारी कोरोना संक्रमित हो गए। कई लोगों की कोरोना से मौत हो गई। इन सबके चलते चुनाव का परिणाम आने में भी देरी हुई। इसके अलावा उन परिणामों को अब तक वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया गया है। वेबसाइट का काम सबसे धीमा चल रहा है। राज्य निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से इसकी शिकायत की गई, इसके बावजूद सुधार नहीं किया गया है।

सटीक आंकड़े वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं हैं

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के शुरू होने से लेकर खत्म होने तक हर जानकारी राज्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर प्रदर्शित होनी चाहिए। हालांकि ऐसा नहीं हुआ है। चुनाव खत्म हो गया लेकिन प्रत्याशियों के सटीक आंकड़े वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं हैं। जो आकड़े हैं, उसमें ढेर सारी गलतियां हैं। उसे कई बार सुधारा गया लेकिन अब भी गलतियां हैं। 

प्रयागराज में तीसरे दिन आधी रात के बाद परिणाम स्‍पष्‍ट हो सके थे

पंचायत चुनाव के मतों की गणना दो मई से शुरू हुई। तीन दिन में लगातार मतगणना चली। तीसरे दिन आधी रात के बाद तक परिणाम स्पष्ट हो सके। वहीं इसके विवरण मतगणना के चौथे दिन भी राज्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर अपलोड नहीं किए जा सके। 

प्रयागराज में विकास खंडों के परिणाम वेबसाइट पर अपलोड नहीं

प्रयागराज के कुछ विकास खंड को छोड़ दिया गया तो लगभग सभी विकास खंडों में हुई मतगणना के पूरे आंकड़े अपलोड नहीं किया गया है। ऐसा ही हाल प्रयागराज मंडल के अन्य जिलों के हैं। प्रयागराज में जिला पंचायत सदस्य के परिणाम अधिकतर अपलोड कर दिए गए हैैं। इसलिए जिला पंचायत के निर्वाचन अधिकारी बनाए गए गंगा राम गुप्ता ने खुद पहल की। वहीं कौशांबी, प्रतापगढ़ सहित कई जिलों के आंकड़े अगले दिन तक अपलोड नहीं हुए।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021