प्रयागराज, जेएनएन। UP Board 10th and 12th Exam 2020 : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 मंगलवार से शुरू हो गई है। परीक्षा के पहले ही दिन इम्तिहान से किनारा करने वालों की संख्या 2.39 लाख से अधिक हो गई है। इससे भी अहम बात यह है कि ये परीक्षार्थी मातृभाषा हिंदी के अनिवार्य प्रश्नपत्र की परीक्षा देने नहीं पहुंचे। परीक्षा केंद्रों की निगरानी वेब कॉस्टिंग के जरिये होने से परीक्षार्थी व कक्ष निरीक्षकों में खलबली रही।

माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड की परीक्षा उत्तर प्रदेश के 7784 केंद्रों पर शुरू हो गई। इसमें 56 लाख से परीक्षार्थियों को शामिल होना था, लेकिन पहली पाली में हाईस्कूल की प्रारंभिक हिंदी की परीक्षा देने 157042 परीक्षार्थी पहुंचे ही नहीं। वहीं, दूसरी पाली में इंटर सामान्य हिंदी की परीक्षा थी, इससे 82091 परीक्षार्थियों ने किनारा कर लिया। पहले दिन कुल 2,39,133 परीक्षार्थियों के इम्तिहान छोड़ने का दावा यूपी बोर्ड प्रशासन की ओर से किया गया है।

इम्तिहान छोड़ने वाले परीक्षार्थियों की संख्या अभी और बढ़ सकती है, क्योंकि इंटर की परीक्षा शाम पांच बजे तक चली है, इससे सभी केंद्रों से ऑनलाइन गैरहाजिर परीक्षार्थियों की संख्या अपलोड नहीं हो सकी थी। बता दें कि पिछले वर्ष परीक्षा छोड़ने वालों का आंकड़ा 12 लाख तक पहुंच गया था। इतना ही नहीं 2019 की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा में हिंदी विषय में अनुत्तीर्ण होने वालों की संख्या 10 लाख रही है। इस बार विशेष सख्ती के कारण परीक्षार्थी पहले ही परीक्षा से किनारा कर रहे हैं। 

बोर्ड प्रशासन के अनुसार पहले की दिन परीक्षा नकलविहीन व शांतिपूर्ण हुई है। केंद्रों पर परीक्षार्थियों की तलाशी के बाद प्रवेश दिया गया साथ ही सीसीटीवी कैमरों की कड़ी निगरानी की गई। कौशांबी जिले में एक केंद्र पर कैमरे संचालित न होने पर अफसरों ने केंद्र व्यवस्थापक को फटकार लगाई है। वहीं, कंट्रोल रूम से भी केंद्रों की पूरे समय निगरानी होती रही।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस