मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रयागराज, जेएनएन : यमुनापार में ताबड़तोड़ वारदात कर रहे बदमाशों की सोमवार अलसुबह पुलिस से मुठभेड़ हो गई। पैर में गोली लगने से उमेश कोल, उसका भाई सुमिरन जख्मी हो गया। फतेह बहादुर को गिरफ्तार कर लिया गया, लेकिन सनी बंजारा फरार हो गया। घायलों को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सभी पर 25-25 हजार रुपये का इनाम था और कई मुकदमे में वांछित थे। 

बारा थाना क्षेत्र के रामकुड़ी गांव निवासी राजू कोल के बेटे उमेश कोल और सुमिरन शातिर अपराधी हैं। बीते नौ जून को घूरपुर में उमेश ने साथियों के साथ पुलिस टीम पर हमला भी किया था। रविवार रात उसने साथियों के साथ बारा में रावेंद्र तिवारी की पिटाई कर बाइक, मोबाइल और पर्स लूटकर पुलिस को खुलेआम चुनौती दे दी। देर रात थानाध्यक्ष घूरपुर व स्वॉट प्रभारी वृंदावन राय, इंस्पेक्टर बारा जेपी शाही को खबर मिली कि चार बदमाश तेलघना व सीधटिकट गांव के पास मौजूद हैं। दोनों थानों की पुलिस ने क्राइम ब्रांच के एसआइ विजय विक्रम की टीम के साथ बदमाशों की घेरेबंदी शुरू कर ली। भोर में करीब चार बजे खुद को घिरा देखकर बदमाश बाइक छोड़कर भागने लगे। पुलिस का दावा है कि पीछा करने पर बदमाशों ने फायङ्क्षरग शुरू कर दी। तब साहस दिखाते हुए वृंदावन राय, विजय विक्रम की टीम ने जवाबी फायङ्क्षरग की। इसमें गोली लगने दो बदमाश जख्मी हो गए, तो तीसरे को दौड़ाकर पकड़ लिया गया। फरार घूरपुर निवासी सनी बंजारा की तलाश चल रही है। 

उमेश की पत्नी समेत पांच पहले ही पकड़े गए: 

पुलिस पार्टी पर हमले के मामले में मध्य प्रदेश के रीवा निवासी उमेश की पत्नी, सास, साला, साढ़ू और ससुर को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेजा चा चुका है। अलग-अलग थानों में उमेश के खिलाफ 12 और सुमिरन के विरुद्ध सात आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। कौंधियारा निवासी फतेह बहादुर के खिलाफ भी एक केस है। 

लूटी गई बाइक व असलहा हुआ बरामद:

मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने लूटी गई बाइक, पिस्टल, तमंचा, मोबाइल बरामद हुआ है। एसएसपी अतुल शर्मा ने बताया कि दो माह में इन बदमाशों ने लूट, हत्या समेत कई अन्य घटनाओं को अंजाम दिया है। ज्यादातर यमुनापार में ही वारदात करते थे। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप