इलाहाबाद : गोवंश संरक्षण के लिए सरकार ने कौशांबी जनपद में वृहद गो संरक्षण केंद्र बनाने का फैसला लिया है। इसमें सवा करोड़ रुपये खर्च होंगे। भवन बनाने के लिए कार्यदाई संस्था पैक्सफेड को प्रथम किस्त के रूप में 50 लाख रुपये मुक्त कर दिया गया है। अब जिला प्रशासन व पशुपालन विभाग भूमि का चयन कर रहा है। जल्द ही गौशाला का निर्माण शुरू कराया जाएगा।

अन्ना घूम रहे गोवंशी की सुविधा के लिए सरकार ने जनपद में वृहद गो संरक्षण केंद्र बनाने की कवायद तेज कर दी गई है। शासन के निर्देश के बाद जिला अधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने मंझनपुर एसडीएम को तलाशने का निर्देश दिया है। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. बीडी पाठक ने बताया कि गोवंश संरक्षण के लिए सरकार ने सवा करोड़ रुपये खर्च करने की मंजूरी दी है। शासन के निर्देश के बाद भूमि की तलाश की जा रही है। सिराथू तहसील क्षेत्र के खोरांव व मंझनपुर तहसील क्षेत्र के अषाढ़ा गांव में भूमि की तलाश के लिए राजस्व गई थी लेकिन अब तक स्पष्ट नहीं हो सका की कहां पर वृहद गो-संरक्षण केंद्र बनाया जाएगा। फिर वही पर छुट्टा मवेशियों को रखा जाएगा। इससे वह सुरक्षित रहेंगे। साथ ही किसानों की फसल भी सुरक्षित रहेगी।

--------------

200 मवेशियों के रहने होगा इंतजाम

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. बीडी पाठक ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार जल्द ही गो संरक्षण केंद्र का निर्माण कार्य शुरू कराया जाएगा। इसमें 200 गोवंशियों के रहने का इंतजाम रहेगा। इसे चलाने के संविदा पर कर्मचारियों की तैनाती की जाएगा। पशु तस्करी के लिए ले जा रहे मवेशियों के यदि पुलिस पकड़ती है। तो ऐसे मवेशियों को भी यहां पर रखा जाएगा।

Posted By: Jagran