इलाहाबाद : अलीगढ़ से वीआइपी ड्यूटी पर आए ट्रैफिक सिपाही विनोद कुमार यादव (35) पुत्र दिनेश की संदिग्ध दशा में मौत हो गई। शनिवार सुबह फायर ब्रिगेड दफ्तर परिसर के टैंक में लाश मिली। पुलिस हादसा बता रही है। 

 आगरा जिले के फतेहाबाद थाना क्षेत्र स्थित जगराजपुर गांव निवासी दिनेश के दो बेटों में विनोद बड़े थे। उनकी पोस्टिंग अलीगढ़ ट्रैफिक पुलिस में थी। वह 2005 बैच के सिपाही थे। इलाहाबाद में उप राष्ट्रपति, राज्यपाल, मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर अलीगढ़ ट्रैफिक पुलिस के कई सिपाहियों को ड्यूटी पर बुलाया गया था। शुक्रवार शाम विनोद कुमार सहकर्मी राम रहीस यादव के साथ सिविल लाइंस स्थित फायर ब्रिगेड कार्यालय पहुंचे और वहीं की बैरक में रात रुके। कहा जा रहा है कि शनिवार सुबह वह शौचालय की तरफ गए। काफी देर बाद भी नहीं लौटे तो राम रहीस खोजने लगे। उनकी नजर टैंक के नीचे चप्पल पर पड़ी तो आशंका हुई। शोर मचाया तो कई फायरमैन पहुंच गए। वहां विनोद की लाश पानी के टैंक में उतराती मिली। शरीर पर अंडर वियर और बनियान थी। शव को पोस्टमार्टम भिजवाया गया। उनके घर पर सूचना दी गई। पुलिस कर्मियों में चर्चा है कि विनोद का पेट फूला नहीं था। ऐसे में कुछ लोग हत्या की आशंका जता रहे हैं। फिलहाल एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव का कहना है कि प्रथम दृष्टया हादसे में मौत प्रतीत हो रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से स्थिति और साफ होगी।

Posted By: Brijesh Srivastava