प्रयागराज, जेएनएन।  मऊआइमा थाना क्षेत्र में रविवार की सुबह सड़क हादसे में दंपती समेत तीन लोगों की मौत हो गई। खड़े डंपर में कार के टकराने से हादसा हुआ। वहीं कार की जद में आने से एक साइकिल सवार की भी जान चली गई। वहीं, माघी पूर्णिमा पर माघ मेला प्रशासन ने दावा किया कि लगभग चौबीस लाख श्रद्धालुओं ने पावन संगम में पुण्य की डुबकी लगाई। जबकि, माघी पूर्णिमा के साथ ही एक माह का कल्पवास भी रविवार को समाप्त हो गया है। गंगा पूजन, अर्चन कर कल्पवासी वापस जाने लगे हैं। इससे मेला के साथ ही शहर के मार्गों पर भी जाम की स्थिति है। शाम को जाम और बढऩे की उम्मीद है। 

प्रयागराज-प्रतापगढ़ राजमार्ग पर मऊआइमा में सड़क हादसा, कल्‍पवासी दंपती समेत तीन की मौत

 मऊआइमा थाना क्षेत्र में रविवार की सुबह सड़क हादसे में दंपती समेत तीन लोगों की मौत हो गई। खड़े डंपर में कार के टकराने से हादसा हुआ। वहीं कार की जद में आने से एक साइकिल सवार की भी जान चली गई। अमेठी जनपद के हीरापुर निवासी राधेश्याम तिवारी 70 व उनकी पत्नी केवला देवी 65 प्रयागराज में संगम की रेती पर कल्‍पवास कर रहे थे। रविवार की सुबह गंगा स्‍नान के बाद घर जाने को कार से निकले थे। रास्‍ते में मऊआइमा के ब्लॉक बाजार में  सड़क पर अचानक एक साइकिल सवार आ गया। साइकिल सवार पन्नालाल पटेल 45 निवासी नयापुरा मरकामऊ मऊआइमा की भी मौके पर ही मौत हो गई।

Maghi Purnima : चटक धूप के साथ ही माघ मेला क्षेत्र में बढ़ गई श्रद्धालुओं की भीड़

माघ मेले का पांचवां प्रमुख स्नान पर्व माघी पूर्णिमा रविवार को मनाई जा रही है। ब्रह्म मुहूर्त में स्नान-ध्यान का सिलसिला शुरू हो गया है। माघ मेला प्रशासन ने दावा कि लगभग चौबीस लाख श्रद्धालुओं ने पावन संगम में पुण्य की डुबकी लगाई।मेला प्रशासन ने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पुख्ता व्यवस्था की है। माघी पूर्णिमा का पुण्‍य काल सुबह 6.42 बजे से शुरू हो गया है लेकिन श्रद्धालुओं की मेले में अधिक भीड़ से आसार जताए जा रहे हैं कि संगम स्नान भोर में चार बजे के आसपास से ही शुरू हो गया है। माघी पूर्णिमा की पूर्व संध्या तक कल्पवासियों के शिविरों में नाते रिश्तेदार आकर रुके तो आसपास के जिलों व पड़ोसी राज्यों से भी लोग मेला क्षेत्र में पहुंच गए।

बहुत जरूरी हो तभी आज घरों से निकलें, वापस लौट रहे कल्पवासियों की भीड़ से लगा जाम

आज बहुत जरूरी हो तभी आप घरों से बाहर निकलें वरना घरों में ही रहें। माघी पूर्णिमा के साथ ही एक माह का कल्पवास भी रविवार को समाप्त हो गया है। गंगा पूजन, अर्चन कर कल्पवासी वापस जाने लगे हैं। इससे मेला के साथ ही शहर के मार्गों पर भी जाम की स्थिति है। शाम को जाम और बढऩे की उम्मीद है। माघी पूर्णिमा के साथ ही एक माह के कल्पवास का भी समापन हो गया है। गंगा स्नान और पूजन, दान कर कल्पवासी भी लौटने लगे हैं। उन्हें घर ले जाने के लिए  प्रयागराज, कौशांबी, प्रतापगढ़, फतेहपुर समेत आसपास के कई जिलों से स्वजन गाडिय़ां लेकर मेला क्षेत्र में मौजूद हैं। कई गंतव्य की ओर जाने लगे हैं। ज्यादातर ट्रैक्टर और मैजिक जैसी गाडिय़ां लेकर आए हैं। जिस पर शिविर का सामान लादकर वापस ले जा रहे हैं।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस