प्रयागराज, जेएनएन। गणतंत्र दिवस को प्रयागराज के लोगों ने धूमधाम से मनाया। ध्‍वजारोहण के बाद विविध कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। वहीं प्रतापगढ़ के आसपुर देवसरा थाना क्षेत्र के रोही पट्टीगांव में रविवार की सुबह ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत हो गई। विरोध स्‍वरूप लोगों रास्‍ताजाम किया। इसी क्रम में शहर पश्चिमी के बसपा विधायक राजू पाल की हत्‍या को 15 वर्ष बीत गए। परिजनों को अभी भी न्‍याय की उम्‍मीद है।

ध्वजारोहण कर उलस से मनाया गणतंत्र दिवस, देश की एकता का लिया संकल्प

प्रयागराज में गणतंत्र दिवस समारोह उल्लासपूर्वक मनाया गया। शहर से लेकर संगम तक देश भक्ति की बयार बही। आयुक्त कार्यालय, प्रयागराज मंडल में रविवार सुबह गणतंत्र दिवस पर मंडलायुक्त डा. आशीष कुमार गोयल ने ध्वजारोहण किया। राष्ट्रगान के बाद उन्होंने देश की एकता और अखंडता कायम रखने की शपथ भी दिलाई। कलेक्ट्रेट में डीएम भानुचंद्र गोस्वामी ने झंडारोहण किया। विभिन्न स्कूल, कालेज विश्वविद्यालय में तिरंगा लहराया गया। शहर स्कूली बच्चों ने प्रभात फेरी भी निकाली। संगम की रेती पर भी विविध आयोजन हुए। संतों के शिविरों के साथ ही मठों व आश्रमों में भी ध्वजारोहण किया गया।

ट्रैक्टर की चपेट से आकर युवक की मौत, शव रख रास्‍ताजाम किया

प्रतापगढ़ के आसपुर देवसरा थाना क्षेत्र के रोही पट्टीगांव में रविवार की सुबह ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत हो गई। हादसे के बाद वाहन लेकर चालक फरार हो गया। आक्रोशित लोगों ने शव रख रास्‍ताजाम कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस को शव देने से इंकार कर दिया। पुलिस ने लोगों को समझाने का प्रयास किया। आसपुर देवसरा के रौजा गांव निवासी सभाजीत शर्मा 45 ढकवा बाजार में अपने बारबर शॉप पर रविवार की सुबह करीब साढ़े 11 बजे बाइक से जा रहा था।

विधायक राजू पाल हत्याकांड : जांच दर जांच में गुजर गए 15 साल

25 जनवरी 2005 को बसपा के शहर पश्चिमी विधायक राजू पाल की हत्‍या कर दी गई थी। उनके काफिले की स्कार्पियो और क्वालिस गाड़ी को घेरकर शूटरों ने ताबड़तोड़ फायर किए थे। उनके साथ देवीलाल पाल और संदीप यादव भी मारे गए थे। रुखसाना समेत कई लोग घायल हुए थे। बरसी पर नीवां स्थित निवास पर पत्नी पूर्व विधायक पूजा पाल समेत रिश्तेदारों और करीबियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। स्वजनों को 15 साल बाद भी न्याय का इंतजार है। राजू पाल की पत्नी पूजा पाल ने तत्कालीन फूलपुर सांसद अतीक अहमद, उनके भाई अशरफ, फरहान, आबिद, रंजीत पाल, गुफरान समेत नौ लोगों के खिलाफ हत्या, आपराधिक साजिश, बलवा, हत्या की कोशिश का केस धूमनगंज थाने में दर्ज कराया था।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस