प्रयागराज, जागरण संवाददाता। प्रयागराज में अभी 4 लाख लोगों को अगले 2 महीने तक पेयजल की समस्‍या का सामना करना पड़ सकता है। इसका कारण भी जान लें। अमृत योजना के तहत शहर के मोहल्लों को पेयजल की समस्या से बचाने के लिए तीन पानी की टंकी का निर्माण किया जा रहा है। जल निगम और ठेकेदार की लापरवाही के कारण एक वर्ष से अधिक समय बीतने के बावजूद टंकी का निर्माण अभी तक पूरा नहीं हो पाया है।

प्रयागराज के तीन स्‍थानों पर बन रही है पानी टंकी : प्रयागराज के तीन स्‍थानों पर जून माह तक पानी टंकी को तैयार करना था। हालांकि ठेकेदारों की लापरवाही के कारण अब निर्माण नवंबर से दिसंबर तक ही पूरा होने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में अब अमृत योजना की टंकी से प्यास बुझाने के लिए शहरवासियों को और इंतजार करना होगा। शहरी की फर्म सीके इंटर प्राइजेज पानी टंकी का निर्माण करा रही है।

किन तीन स्‍थानों पर बन रही पानी टंकी : अमृत योजना-2 के तहत शहर में पेयजल की आपूर्ति बेहतर करने के लिए तीन करोड़ रुपये से अधिक की लागत में पानी की टंकी तैयार की जा रही है। अलोपीबाग, बक्शीबांध और बैरहना में टंकी बनाई जा रही है। अलोपीबाग में बन रही पानी टंकी की क्षमता 1100 किलोलीटर है। इसे 1.20 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जा रहा है। बक्शी बांध पर बघाड़ा मोहल्ले के लिए 1150 किलोलीटर क्षमता की टंकी बनाई जा रही है, जिसकी लागत 1.30 करोड़ रुपये है। बैरहना मोहल्ले में 1400 किलोलीटर क्षमता की पानी टंकी तैयार हो रही है, जिसकी लागत 1.60 लाख रुपये है। तीनों टंकियों का निर्माण पूरा होने के बाद चार लाख से अधिक आबादी को पानी की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

क्‍या कहते हैं जलनिगम के अधिशासी अभियंता : जलनिगम के अधिशासी अभियंता द्वितीय सीएस सोलंकी ने बताया कि पानी की टंकी बनाने का काम तेजी से चल रहा है। दो टंकी का निर्माण पूरा हो गया है। इससे जलापूर्ति जल्द शुरू कराई जाएगी। निर्माण करने वाली एजेंसी को कई बार चेतावनी दी जा चुकी है। 30 सितंबर को जलापूर्ति शुरू हो जाएगी। समय से काम न पूरा होने पर र्कारवाई की जाएगी।

Edited By: Brijesh Srivastava