प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में छात्रसंघ बहाली के समर्थन में आमरण अनशन पर बैठे छात्रसंघ के निवर्तमान महामंत्री शिवम सिंह, उप मंत्री सत्यम सिंह सनी और छात्रनेता संदीप मोर्चा और अविनाश विद्यार्थी की तबीयत खराब हो गई। आरोप है कि सूचना देने के बाद भी इलाज के लिए अनशन स्थल पर कोई भी डॉक्टर नहीं पहुंचा। वहीं मंगलवार की रात में इविवि के चीफ प्राक्टर प्रो. राम सेवक दुबे, डीएएस डब्ल्यू प्रो. हर्ष कुमार प्राक्टोरियल बोर्ड के सदस्यों के साथ पहुंचे और छात्रों से अनशन खत्म करने का अनुरोध भी किया लेकिन छात्र नहीं माने।

छात्रों ने कहा, सत्याग्रह इसलिए कर रहे हैं कि इविवि प्रशासन की आत्मा शुद्ध हो

29 जून को कार्य परिषद की बैठक में इविवि में छात्रसंघ बैन कर दिया गया था। इसके बाद से छात्र आंदोलित हैं। सुनवाई न होने पर आमरण अनशन शुरू कर दिया गया है। इसी बीच इविवि प्रशासन ने अनशनकारी छात्रों पर अराजकता का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज करा दिया। छात्रों का कहना है वे सत्याग्रह इसलिए कर रहे हैं कि इविवि प्रशासन की आत्मा शुद्ध हो, संस्कारित हो और बदले की भावना से मुक्त हो। कहा कि छात्रसंघ हमारा अधिकार है और उस अधिकार को अपने पद के बल से नष्ट करना कहां तक जायज है।

संयुक्त संघर्ष समिति ने सूचना स्वास्थ्य मंत्री को भेजी

आमरण अनशन के तीसरे दिन अनशनकारी छात्रों की तबीयत भी बिगड़ गई। आरोप है कि कई बार सीएमओ को सूचना दी गई, लेकिन मौके पर कोई नहीं पहुंचा। संयुक्त संघर्ष समिति ने इसकी सूचना स्वास्थ्य मंत्री को भेजी है।

सांसद डॉ. रीता जोशी से प्रो. शास्त्री ने की अपील

इलाहाबाद विश्वविद्यालय संयुक्त संघर्ष समिति ने कैबिनेट मंत्री एवं इविवि की पुरा छात्रा व शिक्षिका डॉ. रीता जोशी से अपील की है। इविवि के रिटायर्ड शिक्षक प्रो. राम किशोर शास्त्री का कहना है कि डॉ. जोशी इसी विश्वविद्यालय में एक ऐसी प्रोफेसर रही हैं, जिसने अपने सेवाकाल में ही विभिन्न राजनैतिक दलों की जिम्मेदारियों को निभाया है। आपकी साफ सुथरी छवि के कारण विश्वविद्यालय परिसर में आपको सम्मान की दृष्टि से देखा जाता रहा है। पिछले कुछ समय से विश्वविद्यालय की वर्तमान सोचनीय स्थिति पर आपके क्रियाकलापों तथा स्थापना दिवस पर दिए गए वक्तव्य से न केवल विश्वविद्यालय के हितैषी बल्कि आपके साथी शिक्षक भी आहत हैं।

प्रो. शास्त्री ने दिया खुला आमंत्रण

प्रो. शास्त्री ने कहा कि हम आपको खुला आमंत्रण दे रहे हैं कि अपनी सुविधा से तिथि, समय और स्थान निश्चित कर लें जब एक सार्वजनिक मंच पर इविवि के कुलपति प्रो. हांगलू और उनके समर्थकों की टीम आपकी उपस्थिति में संघर्ष समिति से विश्वविद्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार, शैक्षिक, वित्तीय और प्रशासनिक अनियमितताओं तथा नैतिक पतन की पराकाष्ठा पर खुली बहस कर लें।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस