इलाहाबाद : झूंसी कांड की तफ्तीश में जुटी पुलिस को एक नई जानकारी मिली है। पता चला है कि करीब एक साल पहले ही विजय ने वंशिका के मांग में सिंदूर भर दिया था। करछना स्थित कॉलेज से बीटीसी की पढ़ाई करने वाली वंशिका ने शादी के लिए नैनी स्थित एक मंदिर को देखा था। इसके बाद वहीं पर विजय को बुलाया और फिर दोनों ने विवाह कर लिया था। शादी की फोटो भी विजय के मोबाइल में कैद थी।

छानबीन में जुटी पुलिस को यह भी पता चला है कि परिजनों को जब वंशिका के इस कदम की जानकारी हुई तो उन्होंने पूछताछ की थी। तब वंशिका ने घरवालों से झूठ बोला। लेकिन दोनों के बारे में परिजन जान चुके थे। दोनों की शादी से शायद वंशिका के परिजन नाखुश थे और फिर उन्होंने होलागढ़ निवासी अमेठी में तैनात शिक्षक से सगाई कर दी। अब तक की जांच में दोनों की प्रेम कहानी सामने तो आ गई है, लेकिन मौत की गुत्थी अभी भी उलझी हुई है। झूंसी पुलिस ने रविवार को वंशिका का मोबाइल जब्त कर लिया, पर उसका लॉक सोमवार को भी नहीं खुलवा सकी। अब विजय और वंशिका का नंबर मिलने के बाद दोनों की कॉल डिटेल रिपोर्ट निकलवाई जा रही है। माना जा रहा है कि रिपोर्ट आने पर कई और राज खुल सकते हैं। साथ ही यह भी पता चल जाएगा कि घटना के दिन किसने किसको पहले फोन किया था। दोनों के बीच कई बार बात हुई थी, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि सबसे पहले विजय और वंशिका में किसने फोन किया था। वहीं, लॉक खुलने पर वंशिका के मोबाइल में किस तरह की तस्वीर कैद है, यह भी पता चल जाएगा। फिलहाल इंस्पेक्टर झूंसी जितेंद्र सिंह का कहना है कि वंशिका व विजय शादी कर चुके थे। सीडीआर रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। न्याय नगर मंदिर परिसर में वंशिका और विजय की गोली लगने से मौत हुई थी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर वंशिका की हत्या कर विजय की खुदकशी करने की रिपोर्ट दर्ज की है।

Posted By: Jagran