इलाहाबाद : पड़ोसी जनपद प्रतापगढ़ स्थित कुंडा में हथिगवां थाना क्षेत्र के दलापुर गांव निवासी सीआरपीएफ जवान बब्बू ¨सह यादव (बाबू) को रविवार दोपहर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। धीमी गंगा घाट पर जय ¨हद और बब्बू अमर रहे के नारों से पूरा वातावरण गूंज उठा। अंतिम विदाई में सैकड़ों लोगों की भीड़ उमड़ी। डीएम शंभु कुमार व एसपी देव रंजन वर्मा तथा पूर्व मंत्री तथा क्षेत्रीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह भी अंत्येष्टि के समय मौजूद थे।

रविवार सुबह दिवंगत सीआरपीएफ जवान बब्बू सिंह का शव घर लाया गया। शव लाए जाते ही परिवार में कोहराम मच गया। पार्थिव देह लेकर आए सैनिकों ने गार्ड आफ ऑनर देकर अपने साथी को विदाई दी। बब्बू (30) पुत्र राम लखन सीआरपीएफ के इंजीनिय¨रग वर्कशाप में टेक्निकल इंचार्ज थे। उनकी तैनाती श्रीनगर में थी। बीते शुक्रवार की सुबह वह परेड में शामिल होने गए थे। इसी दौरान गश खाकर गिर पड़े। साथी जवान इलाज के लिए चिकित्सक के पास ले गए लेकिन गंभीर हालत देख उन्हें सेना के बेस हास्पिटल रेफर कर दिया गया। वहां ले जाते समय उनका निधन हो गया। शनिवार को सूबेदार रामकुमार के नेतृत्व में श्रीनगर से प्लेन के जरिए बब्बू का शव शाम को वाराणसी एयरपोर्ट लाया गया। रविवार की सुबह सड़क मार्ग से साथी जवान शव लेकर बब्बू के घर पहुंचे। पार्थिव देह गांव लाए जाने के बाद उपस्थित भीड़ 'जब तक सूरज चांद रहेगा, बब्बू भइया का नाम रहेगा' जैसे नारे लगाने लगी। ताबूत से पार्थिव देह निकाले जाते ही चीख पुकार मच गई। पत्नी मीरा दहाड़ मारकर शव से लिपट गई। बेटी प्रियंका व बेटा शुभम भी बिलख-बिलख कर रो रहे थे। उन्हें संभाल रहे परिवार वाले भी नियंत्रण खो बैठे। परिवार वालों के करुण क्रंदन से हर किसी की आंख नम हो गई। एसडीएम विजय पाल ¨सह, सीओ राधेश्याम, नायब तहसीलदार बृजमोहन शुक्ला एवं एसओ हथिगवां अर्जुन ¨सह ने पुष्प चक्र अर्पित कर गार्ड आफ आनर दिया। फिर साथी जवानों ने कंधा दिया। धीमी गंगा घाट पर ससम्मान अंतिम संस्कार किया गया। बेटे शुभम ने मुखाग्नि दी।

Posted By: Jagran