प्रयागराज,जेएनएन । यमुनापार के बारा तहसील क्षेत्र स्थित लखनपुर गांव में प्रस्तावित सीमेंट फैक्ट्री के लिए नए सिरे से मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) की कवायद शुरू हो गई है। कारपोरेट टैक्स में छूट का लाभ लेने के लिए कंपनी प्रबंधन की ओर से यह फैसला लिया गया है। इसके लिए कंपनी प्रबंधन पुरानी कंपनी का नाम बदल देगी।

सरकार ने नई कंपनियों पर घटा दिया कारपोरेट टैक्‍स

दरअसल, वाराणसी की सांची कंपनी का करीब डेढ़ साल पहले लखनऊ में आयोजित 'इनवेस्टर्स समिटÓ में प्रयागराज में सीमेंट फैक्ट्री लगाने का एमओयू हुआ था। एमओयू लगभग चार सौ करोड़ रुपये का था। फैक्ट्री लगाने के लिए कंपनी प्रबंधन ने बारा के लखनपुर गांव में करीब 25 एकड़ जमीन खरीदने के लिए चिह्नि किया था। इसके लिए डीएम को प्रस्ताव भी दिया गया था। हालांकि, बाद में संक्रमणीय और असंक्रमणीय जमीन को लेकर पेच फंस गया था, क्योंकि असंक्रमणीय जमीन खरीदी नहीं जा सकती है। असंक्रमणीय जमीन का मसला लगभग फाइनल होने हुआ, तभी पिछले महीने सरकार ने नई कंपनियों के लिए कारपोरेट टैक्स 22.5 से घटाकर 15 फीसद कर दिया। पुरानी कंपनियों पर कारपोरेट टैक्स 22.5 फीसद ही रखा गया है।

नई कंपनी बनाने की दिशा में कवायद तेज

ऐसे में कंपनी प्रबंधन ने सीमेंट इंडस्ट्रीज के नाम से नई कंपनी बनाने की दिशा में कवायद तेज कर दिया है। इस संदर्भ में कंपनी प्रबंधन लखनऊ में भारी उद्योग मंत्री सतीश महाना से मिल भी चुका है।  उपायुक्त उद्योग अजय कुमार चौरसिया ने बताया कि असंक्रमणीय जमीन तीन-चार एकड़ ही थी, इसलिए वह मसला लगभग हल हो गया है। कंपनी गठन के बाद प्रबंधन सरकार से एमओयू करेगा तो सरकार लेटर ऑफ इंटेंट जारी करेगी, जिसमें नई कंपनी को मिलने वाली सुविधाओं का ब्योरा होगा।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस