प्रयागराज,जेएनएन । संगम नगरी को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए अब शहर के गणमान्य लोगों से सुझाव मांगे जा रहे हैं। सर्किट हाउस में प्रयागराज स्मार्ट सिटी लिमिटेड की एडवाजयरी फोरम की बैठक हुई। इसमें इस्टर्न चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के पदाधिकारी, व्यापार मंडल के पदाधिकारी, ट्रिपलआइटी के प्रोफेसर आदि शामिल हुए। उनसे शहर में खुलने वाले 200 ओपर एयर जिम, 150 स्मार्ट शौचालयों समेत स्मार्ट सिटी के दूसरे चरण के कामों को लेकर चर्चा की गई। महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी और न्यायमूर्ति वीपी पाठक की अध्यक्षता में हुई बैठक में स्मार्ट सिटी की योजनाओं की जानकारी दी गई।

स्‍मार्ट सिटी में प्रथम चरण में हुए कार्यों की दी जानकारी

स्मार्ट सिटी के सीईओ और नगर आयुक्त रवि रंजन ने स्मार्ट सिटी के प्रथम चरण में शहर में बनाई गई स्मार्ट रोड, आइट्रिपल सी, चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने समेत अन्य कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में शहर के गणमान्य लोगों से सुझाव नहीं लिए गए थे।

दूसरे चरण के काम के लिए मांगे गए सुझाव

इसलिए दूसरे चरण के काम शुरू होने से पहले लोगों से सुझाव मांगे जा रहे हैं। दूसरे चरण में शहर में 200 पार्क में ओपन एयर जिम खोलने की तैयारी है। 150 स्मार्ट शौचालय बनाए जाएंगे। इन्हें कहां पर बनाने पर सभी लोगों के लिए उपयोगी होगा। इसके बारे में आप लोगों के सुझाव अपेक्षित हैं। महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने कहा कि प्रयागराज का सर्वांगीण विकास तभी संभव है, जब सभी लोगों की सहभागिता होगी। शहर में जो भी विकास कार्य हो रहे हैं। उसे संरक्षित करने की जरूरत है। न्यायमूर्ति वीपी पाठक ने सड़कों के अतिरिक्त मोहल्लों की सड़कों के सुदृढ़ीकरण पर जोर दिया। विधायक हर्षवर्धन बाजपेई ने नागरिकों को शहर के विकास के लिए निजी हितों से ऊपर उठकर जनहित के लिए व्यापक दृष्टिकोण अपनाने पर जोर दिया। बैठक में सभी रोड पर वेंडिंग जोन, बिना रजिस्टर्ड ई रिक्शा पर प्रतिबंध लगाने, सिविल लाइंस के अतिरिक्त अन्य क्षेत्रों में विकास करने और नागरिकों की सभी आवश्यक सुविधाएं ऑनलाइन उपलब्ध कराने का सुझाव दिया गया।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस